सोनिया-राहुल को जेल ना जाना पड़े, इसलिए उंगली काटकर मंदिर में चढ़ाई

बेंगलुरु/नई दिल्ली. कर्नाटक के एक बिजनेसमैन ने नेशनल हेराल्ड केस में सोनिया-राहुल की बेल के लिए मन्नत मांगी। बेल मिलने पर इंदुवाल सुरेश नाम ने तिरुपति बालाजी मंदिर में उंगली चढ़ा दी। कांग्रेस समर्थक सुरेश को आजकल लोग पार्टी का एकलव्य कहने लगे हैं। घटना 25 दिसंबर की बताई जा रही है, लेकिन इसकी खबर अब मीडिया में आई है। शनिवार को कर्नाटक के एक मंत्री ने भी उससे मुलाकात की थी।
क्यों और कैसे उंगली काटकर चढ़ाई…
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेशनल हेराल्ड केस में सोनिया-राहुल गांधी को जमानत मिलने के लिए उन्होंने भगवान से मन्नत मांगी थी।
– कांग्रेस के नेता जेल जाने से बच गए तो इंदुवाल ने बाएं हाथ की उंगली काट कर तिरुपति मंदिर में चढ़ा दी। बता दें कि हेराल्ड केस की अगली सुनवाई फरवरी में होनी है।
– इंदुवाल ने मीडिया को बताया कि उन्होंने खुद अपनी उंगली काटी और उसे 1000 रु. के नोट में लपेटकर मंदिर के दान पात्र में डाल दी।
– इस घटना के बाद तिरुपति मंदिर की सिक्युरिटी पर सवाल भी उठ रहे हैं।
कौन हैं इंदुवाल सुरेश?
– 35 साल के इंदुवाल सुरेश बेंगलुरु के पास रामनगरम में रहते हैं। उनका ग्रेनाइट और मार्बल सप्लाई का बिजनेस है।
– जब इस घटना का पता कर्नाटक के हाउसिंग मिनिस्टर एमएच अंबरीश को लगा तो उन्होंने इंदुवाल से मुलाकात की।
– अंबरीश ने पूछा, ”उंगली काटने के अलावा तुम पदयात्रा जैसे दूसरे काम भी कर सकते थे? क्या तुम कलयुग के एकलव्य बनना चाहते हो?”
– इस पर इंदुवाल ने कहा, ”अन्ना (अंबरीश) ये सभी तरीके पुराने हो चुके हैं, मैं कुछ नया करना चाहता था।”