स्मृति की संपत्ति 5 साल में 56 लाख बढ़ी; राहुल के पास कार नहीं, मां से लिया 5 लाख कर्ज

स्मृति के पास 1.75 करोड़ रु की चल और 2.96 करोड़ की अचल संपत्तिराहुल ने अपने पास 5.80 करोड़ रुपए की चल और 10.08 करोड़ की अचल संपत्ति बताई

लखनऊ. उत्तरप्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की संपत्ति में 5 साल में 56 लाख रु. का इजाफा हुआ है। इस वक्त उनके पास 4.71 करोड़ रुपए की संपत्ति है। 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान दाखिल हलफनामे के मुताबिक, स्मृति के पास 4 करोड़ 14 लाख 98 हजार 621 रु. की संपत्ति थी। वहीं, राहुल गांधी के हलफनामे के मुताबिक, उनके पास खुद की कार नहीं है। सोनिया से उन्होंने 5 लाख का कर्ज भी लिया है।

स्मृति के पास 13 लाख की कार और 21 लाख के जेवर 
हलफनामे के मुताबिक, स्मृति की चल-अचल संपत्ति में 1.45 करोड़ रुपए की कृषि भूमि और 1.50 करोड़ रु. की आवासीय इमारत शामिल है। उनके पास 1.75 करोड़ की चल और 2.96 करोड़ की अचल संपत्ति है। 31 मार्च 2019 तक स्मृति के पास 6 लाख 24 हजार नकद और 89 लाख रु. से ज्यादा बैंक में जमा हैं। राष्ट्रीय बचत योजना में और पोस्ट ऑफिस में 18 लाख से ज्यादा जमा हैं। 13.14 लाख रु. की एक कार और 21 लाख रु. के जेवर हैं। स्मृति के पति जुबिन ईरानी के पास 1.69 करोड़ रु. की चल संपत्ति और 2.97 करोड़ की अचल संपत्ति है। 

स्मृति पर कोई केस नहीं हैं। उन पर कोई लोन भी बकाया नहीं है।

राहुल गांधी पर 72 लाख का कर्ज
राहुल गांधी ने हलफनामे में बताया है कि उनकी कुल संपत्ति 15.88 करोड़ रु. से ज्यादा है। राहुल के पास खुद की कार नहीं है। बैंक और अन्य वित्तीय संस्थानों का उन पर 72 लाख का कर्ज है। उन्होंने अपनी मां सोनिया गांधी से 5 लाख का कर्ज भी ले रखा है। राहुल ने 5 करोड़ 80 लाख 58 हजार 799 रु. की चल और 10 करोड़ 8 लाख 18 हजार 284 अचल संपत्ति बताई है। 2014 में राहुल ने अपनी संपत्ति 9.40 करोड़ बताई थी।  

सोनिया के पास 11.8 करोड़ रुपए की संपत्ति
यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 11 अप्रैल को पर्चा दाखिल किया। यहां उन्होंने 11.8 करोड़ रुपए की संपत्ति का ब्योरा दिया। 2014 में उनकी संपत्ति 9.3 करोड़ रुपए थी। उन्होंने इटली में 23 लाख रुपए की पैतृक संपत्ति भी दर्शायी है। पिछले चुनावों में घोषित संपत्ति से तुलना की जाए तो सोनिया की आय 45% कम हुई है। 2014 में विभिन्न स्रोतों से उनकी आय 17 लाख रुपए सालाना थी, जो अब घटकर 9.61 करोड़ रुपए रह गई है। 

स्मृति की शिक्षा पर बढ़ा बवाल 

एक बार फिर स्मृति के एजुकेशन पर विवाद शुरू हो गया है। हलफनामे में स्मृति ने बताया है कि 1994 में दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग में पत्राचार से बीकॉम में दाखिला लिया था, लेकिन तीन साल के इस कोर्स को उन्होंने पूरा नहीं किया। 2004 में जब स्मृति ईरानी चांदनी चौक से चुनाव लड़ी थीं, तब उन्होंने बताया था कि उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है। स्मृति ने सीबीएसई बोर्ड से 1991 में 10वीं और 1993 में 12वीं की परीक्षा पास की थी। शपथपत्र में दी गई जानकारी के अनुसार, वह ग्रेजुएट नहीं है।     

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *