हमारे लिए सच का सामना करने का वक़्त: कोहली

किंग्स्टन: नियमित कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की गैरमौजूदगी में भारतीय टीम की कमान सम्भाल रहे विराट कोहली ने मंगलवार को सबीना पार्क मैदान पर श्रीलंका के साथ खेले गए त्रिकोणीय श्रंखला मुकाबले में करारी शिकस्त के बाद स्वीकार किया कि लगातार दो हार ने टीम प्रबंधन को अपनी रणनीति पर पुनर्विचार करने को मजबूर कर दिया है.

कोहली बोले, “हमारे लिए सच्चाई की तह में जाने का वक्त है. हमें जानना होगा कि कहां गलती हुई. इस हार से हमें निराशा और दुख हुआ है. हम चार दिन पहले तक बहुत अच्छी स्थिति में थे, लेकिन आज हम यह सोचने पर मजबूर हो गए हैं कि आखिरकार कमी कहां रह गई है.”
ग़ौरतलब है कि श्रीलंका ने उपुल थरंगा (नाबाद 174) और पूर्व कप्तान माहेला जयवर्धने (107) की शानदार शतकीय पारियों और फिर रंगना हेराथ के नेतृत्व में अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन की बदौलत श्रृंखला के तीसरे मैच में भारत को 161 रनों से हरा दिया.

थरंगा, जयवर्धने और कप्तान एंजेलो मैथ्यूज के नाबाद 44 रनों की बदौलत श्रीलंका ने भारत के सामने 349 रनों का चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रखा, लेकिन भारतीय टीम 44.5 ओवरों में सभी विकेट गंवाकर 187 रन ही बना सकी. रवींद्र जडेजा ने सर्वाधिक नाबाद 49 रन बनाए, जबकि मुरली विजय के बल्ले से 30 और सुरेश रैना के बल्ले से 33 रन निकले.

कोहली ने कहा कि उनकी टीम के लिए यह दिन अच्छा नहीं था, क्योंकि वह गेंद और बल्ले के साथ पूरी तरह नाकाम रही. कोहली बोले, “यह हमारा दिन नहीं था. गेंद के साथ हमने अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं किया.”

कप्तान ने कहा, “श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने बेहतरीन खेल दिखाया, जबकि हम इस विभाग में भी नाकाम रहे. 349 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के लिए आपको तेज शुरुआत की जरूरत होती है, लेकिन हम इसमें नाकाम रहे.