‘हां, कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है’, इंटरव्यू पर BJP ने घेरा, अल्पसंख्यक विभाग के प्रमुख बोले- ‘इसमें कुछ भी गलत नहीं’

कांग्रेस के मुसलमानों की पार्टी होने के मुद्दे पर सियासी तकरार बढ़ती जा रही है. बीजेपी प्रवक्ता संबिता पात्रा ने सोमवार को दावा किया कि कांग्रेस के माइनॉरिटी सेल के अध्यक्ष नदीम जावेद ने एक इंटरव्यू में पार्टी को मुस्लिमों की पार्टी बताया है. वहीं कांग्रेस ने सफाई देते हुए कहा है कि बीजेपी पार्टी के बारे में झूठ फैला रही है. पार्टी ने कभी भी इस तरह का दावा नहीं किया है.

संबिता पात्रा ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा, ‘कांग्रेस माइनॉरिटी सेल के अध्यक्ष नदीम जावेद ने इंक़लाब अखबार से इंटरव्यू में इस बात को दोहराया है कि राहुल गांधी ठीक कहते हैं कि ‘हां कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है’. जावेद आगे कहते हैं कि राहुल गांधी मुस्लिम अकलियत के साथ बैठक कर रहे हैं और जल्द ही उनकी अध्यक्षता में मुस्लिमों का एक सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा.’

बीजेपी प्रवक्ता के इस दावे के बाद कांग्रेस सोमवार को बचाव की मुद्रा में नजर आई. पार्टी नेता नदीम जावेद ने सफाई देते हुए कहा कि संबित पात्रा जो दावा कर रहे हैं उस तरह का बयान उन्होंने कभी नहीं दिया. जावेद ने कहा, ‘ जो मेरा बयान बताया जा रहा है, वह पूरी तरह गलत, तथ्यों से परे है. राजनीतिक साजिश के तहत ये सब किया जा रहा है.’

क्या कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है? बीते तीन दिनों से जारी विवाद ने अब नया मोड़ ले लिया है. कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अगर ऐसा कहा है तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है. नदीम जावेद ने कहा, मुसलमानों के ताल्लुक से राहुल गांधी ने कुछ भी गलत नहीं कहा है और न ही इंकलाब ने कोई गलत बात कही है. बता दें कि राहुल गांधी के कथित बयान (कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है) का कांग्रेस ने भी खंडन कर दिया था, लेकिन अब नदीम जावेद के बयान के बाद इसपर एक बार फिर राजनीति गर्म हो गई है.

किसी एक तबके की तरक्की से नहीं हो सकती पूरे मुल्क की तरक्की- नदीम जावेद

नदीम जावेद ने कहा, ”कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है क्योंकि वो कमजोर हैं तो इसमें गलत क्या है. क्या हम सच्चर कमेटी की रिपोर्ट भूल गए, जिसमें कहा गया है कि मुसलमानों की हालत दलितों से भी खराब है.” नदीम जावेद ने तर्क दिया, ” मुल्क की तरक्की किसी एक तबके की तरक्की से नहीं हो सकती. अगर मुल्क को सुपरपावर बनाना है और दुनिया के विकसित देशों के साथ खड़ा करना है तो फिर देश के कमज़ोर तबके की बात करनी होगी. हमें मुसलमानों के मुद्दे उठाने होंगे.” नदीम जावेद का कहना है कि कांग्रेस हमेशा कमज़ोरों की पार्टी रही है.

राहुल गांधी के करीबी रहे शहजाद पूनावाला ने भी किया ट्वीट 

नदीम जावेद के बयान पर कभी राहुल गांधी के करीबी रहे शहजाद पूनावाला ने भी टवीट किया है. उन्होंने कहा है, ”नदीम जावेद ने इंक़लाब की ख़बर को माना सच.नदीम जावेद ने कहा कि राहुल गांधी ने मुसलमानों के ताल्लुक़ से ना कोई ग़लत बात कही है और ना ही इंक़लाब ने कोई ग़लत बात लिखी.”

पीएम मोदी ने साधा राहुल पर निशाना

राहुल के इस कथित बयान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी निशाना साधा. पीएम मोदी ने आजमगढ़ में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ”मैंने अखबार में पढ़ा, कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष ने ये कहा कि कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है. पिछले दो दिन से इस पर चर्चा चल रही है, मुझे इस पर आशचर्य नहीं है. क्योंकि स्वंय पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि देश के प्राकृतिक संसाधनों पर सबसे पहला अधिकार मुस्लिमों का है. मैं कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष से पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी सिर्फ मुस्लिम पुरुषों की पार्टी है या महिलाओं की भी है. क्या मुस्लिम महिलाओं की इज्जत, सम्मानऔर हक के लिए कोई जगह है क्या? संसद में कानून रोक कर बैठ जाते हैं, संसद चलने नहीं देते हैं.”

मुस्लिम बुद्धिजीवियों से कब मिले राहुल?

आपको बता दें कि बीते बुधवार को राहुल गांधी ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के दौरान 10 से 12 मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने राहुल गांधी से देश के हालात पर चर्चा की थी और मुसलमानों से जुड़े मुद्दे उनके सामने रखे थे. हालांकि, इस मुलाकात से जुड़ी ज्यादा जानकारियां सामने नहीं आईं. मुस्लिम बुद्धिजीवियों और राहुल गांधी की मुलाकात को सलमान खुर्शीद ने पहल की थी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *