हाईकमान कहे, तो कांग्रेस का दरबान बनने को तैयार- अजय सिंह

Tatpar 4 Jan 2014

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं मप्र. विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि यदि हाईकमान कहें, तो वे कांग्रेस के दरबान बनने को तैयार हैं। महापौर उपचुनाव में प्रचार के लिए सागर आए श्री सिंह पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। कांग्रेस नेता से पत्रकारों ने सवाल किया था कि वे पुन: नेता प्रतिपक्ष बनना चाहेंगे या फिर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष। जवाब में उन्होंने दरबान बनने की बात कहते हुए जोड़ा कि पार्टी उनके लिए जो भी निर्देश देगी, वह उसी के मुताबिक काम करेंगे। कांग्रेस में गुटबाजी की बात को नकारते हुए सिंह ने कहा कि भाजपा में गुटबाजी की स्थिति यह है कि कुछ ही दिनों में भाजपा दो धड़ों में बट जाएगी। एक धड़ा शिवराज सिंह एवं दूसरा धड़ा उमा भारती के नेतृत्व में अलग-अलग दिखाई देगा। मप्र. विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाए जाने के प्रश्न पर सिंह ने विनोदपूर्ण अंदाज में कहा कि क्या आप मुझे रिटायर करवाना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि नेता प्रतिपक्ष के चुनाव के लिए 5 जनवरी को कांग्रेस विधायक दल की बैठक वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में होगी। सिंह ने कहा कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस क्यों हारी, इसको लेकर मंथन और कारण जानने की कोशिश जारी है। इतना तो कहा ही जा सकता है कि चुनाव में बड़े पैमाने पर गड़बडिय़ां हुई हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि सागर में लगातार 20 साल से सांसद-विधायक व महापौर भाजपा के जीतते आ रहे हैं, लेकिन सागर विकास के मामले में पिछड़ा ही है। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस के लिए प्रयोग के तौर पर भी यह 11 माह जनता ने दे दिए, तो तुलनात्मक आकलन हो जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने करोड़ों की राशि विभिन्न योजनाओं में सागर को दी, लेकिन भाजपा की सरकार और निगम ने उस राशि का दुरुपयोग ही किया। कांग्रेस के पूर्व विधायक अरुणोदय चौबे पर हत्या का आरोप लगने के बारे में उन्होंने कहा कि यदि चौबे ने गोली चलाई होती, तो वे खुद ही थाने पहुंचते? उन्होंने कहा कि पुलिस सही जांच करे इसमें साजिश भी है और कुछ लोग को सलाह है कि वे पद का दुरुपयोग न करें। महापौर पद की कांग्रेस प्रत्याशी इंदु चौधरी ने जिला कांग्रेस अध्यक्ष रेखा चौधरी ने भी अपने विचार रखते हुए महापौर चुनाव में जीतने पर अपनी प्राथमिकताएं गिनाई। इस मौके पर युवा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुणाल चौधरी सहित कांग्रेसी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *