हार्दिक ने निकाला विरोध का नया तरीका, गांवों-शहरों में बांटेंगे ‘लॉलीपॉप’

अहमदाबाद. गुजरात में पाटीदार रिजर्वेशन आंदोलन के अगुवा हार्दिक पटेल बीजेपी सरकार की मुश्किलें फिर बढ़ा सकते हैं। हार्दिक ने राज्य में ‘लॉलीपॉप मूवमेंट’ का एलान किया है। 22 साल के हार्दिक ने दावा किया है इस पैकेज से पटेल समुदाय का भला नहीं होने वाला। गांवों-शहरों में लोगों के बीच ‘लॉलीपॉप’ बांट कर इसका विरोध करेंगे। बता दें कि पिछले दिनों राज्य सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर स्टूडेंट्स के लिए 1000 करोड़ रुपए के पैकेज का एलान किया है।
हार्दिक ने क्या कहा?
हार्दिक ने सरकार के इस पैकेज को लॉलीपॉप करार दिया है। उन्होंने कहा- इस पाटीदार अनामत आंदोलन समिति गांवों-शहरों में इस पैकेज के विरोध में आंदोलन करेगी। हार्दिक ने राजकोट में नए आंदोलन की शुरुआत की है। बता दें कि पिछले दिनों हार्दिक ने गुजरात हाईकोर्ट के सामने यह वादा किया था कि 29 सितंबर तक वह किसी भी प्रकार का आंदोलन, विरोध-प्रदर्शन नहीं करेंगे।
कोर्ट ने क्या कहा था?
कोर्ट ने गुरुवार को को कई बार हार्दिक पटेल और उनके वकील बीएम मनगुकिया आगाह करते हुए कहा था कि आधी रात में पिटीशन देकर उन्होंने कोर्ट से काम कराया। बता दें कि हार्दिक के वकील की ओर से एक पिटीशन में कहा था कि गुजरात पुलिस ने हिरासत में लेने के बहाने हार्दिक का अपहरण कर लिया है। इसके बाद कोर्ट ने कहा था, ”शुरुआती दौर में लगता है कि इस पिटीशन को पब्लिसिटी के लिए फाइल किया गया था।” हार्दिक ने कोर्ट के सामने पेश होने से पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपहरण करने का आरोप लगाया था।
क्या है सरकार का पैकेज?
गुरुवार को गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने स्पेशल स्कीम पैकेज का एलान किया। इस पैकेज के मुताबिक, कम आय वाली फैमिली के स्टूडेंट्स की फीस माफ करने की बात है। इस पैकेज में स्टूडेंट्स के अधिकार। जाति आधार पर नहीं बल्कि सालाना 4.5 लाख से कम कमाने वाली फैमिली के स्टूडेंट्स को इसका लाभ मिल सकेगा। बताया जा रहा है कि पटेल समुदाय को एकजुट कर चुके हार्दिक के आंदोलन को कमजोर करने के लिए गुजरात सरकार ने इस स्कीम का एलान किया है।