हिंदुत्व भारत की पहचान है, बीफ पर बैन पक्षपात को दिखाता है

नई दिल्ली. उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का टेन्योर आज खत्म हो रहा है। इससे पहले बुधवार को अंसारी ने कहा कि हिंदुत्व भारत की पहचान रहा है, न कि किसी का बीफ खाना। बीफ पर बैन लगाने वाले बयानों से नजरअंदाज और पक्षपात करने की बात ही सामने आती है। ऐसे लोग भारत के उस स्वरूप को नहीं जानते, जिस पर सभी गर्व करते हैं। शुक्रवार को वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे।
किसी राजनीतिक शख्स या दल के बारे में बात नहीं करूंगा…
 – न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक अंसारी ने राज्यसभा टीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा, “मैं किसी राजनीतिक शख्स या दल के बारे में बात नहीं करूंगा, लेकिन जब भी कोई ऐसा कमेंट होता है, तो मैं कहूंगा कि वह शख्स नासमझ है या उसका पक्षपातपूर्ण रवैया है या फिर वह देश के उस खाके में फिट नहीं होता, जिस पर भारत को हमेशा गर्व होता है। सही मायने में तो हमारा समाज सबको समाहित करने वाला है।”
– अंसारी से पूछा गया था कि एक मुसलमान के रूप में वह ऐसे बयानों पर कैसा महसूस करते हैं? अंसारी का ये इंटरव्यू गुरुवार को टेलीकास्ट होगा।
– अंसारी ने ये भी कहा, “टॉलरेंस यह एक अच्छी खूबी है लेकिन यह काफी नहीं है। लिहाजा आपको टॉलरेंस से आगे बढ़ते हुए स्वीकार करने की राह पर बढ़ना होगा।”
– “हम टॉलरेंस के बारे में बात क्यों करते हैं? क्योंकि आप किसी उस बात को सहन करने की जरूरत महसूस करते हैं, जो शायद आपके हिसाब से नहीं है।”
और क्या बोले अंसारी?
– राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के बारे में अंसारी ने कहा, “कोविंद के राष्ट्रपति बनने से पहले से ही मैं उन्हें जानता था। ये मेरे लिए फायदेमंद रहा। उनके गवर्नर बनने के दौरान मैं कई बार बिहार गया। उनसे अच्छी बातचीत हुई।”
– “हर शख्स की अपनी एक राजनीतिक सोच होती है। लेकिन चीजें आपको नया अनुभव देती हैं।”
– “ये सच है कि संवैधानिक पद पर बैठने के बाद कुछ बाधाएं होती हैं। लेकिन उन्हें समझदारी से हल किया जा सकता है।।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *