हिमाचल में इन 6 वजहों से धूमल को बनाना पड़ा CM कैंडिडेट

अमित शाह ने वोटिंग से 9 दिन पहले सिरमौर के राजगढ़ में एलान किया कि प्रेम कुमार धूमल हिमाचल में बीजेपी के सीएम फेस होंगे। फाइल फोटो में बीच में हैं धूमल।
शिमला:पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल हिमाचल में बीजेपी के सीएम फेस होंगे। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को वोटिंग से 9 दिन पहले सिरमौर के राजगढ़ में यह एलान किया। 2004 में भी प्रेम कुमार धूमल को वोटिंग से 2 दिन पहले सीएम कैंडिडेट घोषित किया था। इसके पीछे पार्टी वर्कर्स और स्थानीय नेताओं से मिले फीडबैक को सबसे बड़ी वजह बताया जा रहा है। बता दें कि राज्य की 68 सीटों पर 9 नवंबर को वोटिंग होगी। नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे।
इन 6 वजहें से अमित शाह ने लिया फैसला
1) 70% धूमल और 30% नेता नड्‌डा के समर्थन में थे
– प्रेम कुमार धूमल के अलावा जेपी नड्डा का नाम भी चर्चा में था। इससे पहले इंदु गोस्वामी को लेकर भी अटकलें चलती रहीं। नड्डा का प्रदेश भर में आधार नहीं है। वे सिर्फ बिलासपुर जिले तक सीमित हैं। उन्हें सीएम फेस घोषित किया जाता तो राजपूत बिरादरी बीजेपी से सरकती दिखाई दे रही थी।
– सूत्रों के अनुसार बीजेपी के 70% नेता प्रेम कुमार धूमल के समर्थन में थे, जबकि नड्डा के पक्ष में महज 30% लोग ही थे। ज्यादा समर्थन के चलते ही धूमल के नाम पर मुहर लगी।
2) सीएम फेस कौन होगा, बीजेपी नेताओं पास जवाब नहीं था?
– कांग्रेस वीरभद्र को सीएम फेस घोषित कर बढ़त हासिल कर चुकी थी, जबकि बीजेपी की स्थिति क्लीयर नहीं थी। वीरभद्र हर रैली में बीजेपी को इसी मुद्दे पर घेर रहे थे। केंद्र से आए नेताओं के पास भी इस सवाल का जवाब नहीं था। इससे पार्टी बैकफुट पर जा रही थी।
3)बीजेपी के पास जनाधार वाला कोई बड़ा नेता नहीं
– धूमल के अलावा राज्य में कोई बड़ा नेता नहीं था जिसके चेहरे पर पार्टी भरोसा कर चुके। इससे पहले प्रेम कुमार प्रेम कुमार धूमल चार बार सीएम कैंडिडेट के तौर पर वीरभद्र सिंह का सामना कर चुके हैं। इससे पहले 1998, 2003, 2007 और 2012 में ये दोनों अपनी-अपनी पार्टी से मैदान में थे।
4) पार्टी समर्थकों में प्रचार को लेकर जोश नहीं था, रैलियों से भीड़ गायब थी
– धमूल को सीएम घोषित न किए जाने से उनकी असरदार सीटों पर बीजेपी कैंडिडेट्स और वर्कर्स में उत्साह नहीं था। इस वजह से पार्टी के समर्थकों में प्रचार को लेकर जोश नहीं था और रैलियों से भीड़ गायब थी। इससे भाजपा का सत्ता में वापसी का रास्ता धुंधला रहा था।
5) अमित शाह को फीडबैक प्रेम कुमार धूमल के फेवर में मिला
धूमल समर्थक भी लगातार मांग कर रहे थे कि चुनाव जीतना है, तो उन्हें सीएम फेस घोषित किया जाए। यह रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को मिल चुकी थी। फीडबैक धूमल के फेवर में मिला। सोमवार को रैलियां करने के बाद अमित शाह ने शिमला के सिसिल होटल में सभी बड़े नेताओं की बैठक बुलाई। तय हुआ कि बीजेपी को भी सीएम फेस प्रोजेक्ट करना चाहिए। शाह ने मीटिंग में शामिल नेताओं से सिर्फ एक ही सवाल किया, क्या सीएम फेस अनाउंस करना जरूरी है? इस पर कुछ नेताओं ने कहा कि हिमाचल के मौजूदा हालात में ऐसा करना जरूरी है, तभी हिमाचल जीता जा सकता है।
6) धमूल खुद भी कई दिनों तक घर में ही रहे
प्रेम कुमार धूमल को जब हमीरपुर से सुजानपुर भेजा तो उन्होंने पार्टी के हुक्म को माना। लेकिन नाराज समर्थक प्रचार के लिए घरों से नहीं निकल रहे थे। धमूल खुद भी कई दिनों तक घर में ही रहे।
अब तक राज्य में राजपूत और ब्राह्मण कम्युनिटी से ही बने हैं सीएम
– प्रदेश में 35% राजपूत हैं। इसके बाद ब्राह्मण कम्युनिटी की 19 से 20% वोट हैं। प्रदेश में अब तक पांच सीएम राजपूत बने। सिर्फ शांताकुमार ही ब्राह्मण कम्युनिटी के सीएम बने।
शाह ने रैली में क्या कहा?
– अमित शाह ने राजगढ़ की रैली में कहा- “वीरभद्र जी खुद भ्रष्टाचार पर जवाब नहीं देते और हमसे पूछते हैं कि सीएम का चेहरा कौन होगा। बीजेपी वरिष्ठ नेता धूमल के नाम पर चुनाव लड़ रही है। अभी वे पूर्व सीएम हैं, लेकिन 18 दिसंबर के बाद वे सीएम होंगे।”
सोमवार रात फाइनल हुआ नाम
– संसदीय बोर्ड से मंजूरी मिलते ही शाह ने पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल और अनुराग ठाकुर को रात में शिमला बुलाया। बीजेपी के हिमाचल प्रभारी मंगल पांडे ने कहा, यह फैसला संसदीय बोर्ड का है, जिसके पास इस स्तर के सभी फैसले लेने का एकाधिकार है।
भाजपा का दूल्हा आ गया है, बारात भी तैयार है: धूमल
– प्रेम कुमार धूमल को सीएम कैंडिडेट घोषित करते ही उनके समर्थकों ने जश्न मनाया। हमीरपुर पहुंचने पर वर्कर्स को संबोधित करते हुए धूमल ने कहा कि जो लोग दूल्हे के आने का इंतजार कर रहे थे, उनका इंतजार खत्म हो गया है। अब दूल्हा आ गया है और बारात भी तैयार है। पार्टी हाईकमान ने अपना काम कर दिया है और अब कार्यकर्ताओं को अपनी जिम्मेदीरी निभानी है। जो लोग रूठे हैं, हम उन्हें भी मनाएंगे।
जानिए कौन हैं BJP के CM कैंडिडेट?
– दो बार हिमाचल के सीएम रह चुके प्रो. प्रेम कुमार धूमल इस बार सुजानपुर विधानसभा सीट से मैदान में हैं। इस बार पार्टी हाईकमान ने इनका विधानसभा क्षेत्र बदला है। ये 2012 में हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र से लड़े थे। इससे पहले वे बमसन सीट से लड़ते थे। धूमल नेता प्रतिपक्ष हैं। वे 1998-2003 और 2008-2012 तक राज्य के सीएम रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *