हिमाचल में बादल फटने के बाद 5 की मौत, J&K में लैंडस्लाइड, अमरनाथ यात्रा रुकी

धर्मपुर (हिमाचल). हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश और बाढ़ के कारण हालात बदतर हो गए हैं। शनिवार को मंडी जिले के धर्मपुर में बादल फट गए। इसके बाद आई बाढ़ से 5 लोगों की मौत हो गई। 10 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं। हिमाचल के अधिकतर हिस्सों में शुक्रवार रात से ही तेज बारिश हो रही है। इस कारण कुल्लू, मनाली, शिमला, मंडी, ऊना जैसे शहरों में कई जगहों पर पानी भर गया है। वहीं, शुक्रवार को लैंडस्लाइड के कारण जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे बंद कर दिया गया। इसके चलते अमरनाथ यात्रा भी रोक दी गई है।
चार बसें बहीं, छह लोगों को बचाया गया
धर्मपुर बस स्टैंड के पास बादल फटने के बाद चार बसें बह गईं। हालांकि, बस में कोई नहीं था। बाढ़ के कारण बस स्टैंड से बसों की आवाजाही रुक गई है। स्थानीय लोगों के मुताबिक शनिवार सुबह स्टैंड से बसों की आवाजाही शुरू हो पाती, उससे पहले ही अचनाक पानी आ गया। 4 बसें बह गईं। स्टैंड पर मौजूद 6 लोग बस की छतों पर चढ़ थे। उन्हें बड़ी मशक्कत के बाद बचाया गया गया। बता दें कि शुक्रवार को हमीरपुर में 3 मकान ढह गए थे। मलबे के नीचे आने से दो लोगों की मौत हो गई थी। शिमला में आम लोगों के जीवन पर इस बारिश का काफी असर पड़ा है। ऊपरी शिमला में सेब मंडियों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। शिमला जाने वाली सड़कों पर भारी जाम लगा है। इस कारण खड़ापत्थर और कोटखाई जैसे इलाकों में सेब से लदे ट्रक फंसे हैं। शुक्रवार को शिमला के कसुम्पटी में नेशनल हाईवे पर लैंडस्लाइड हुआ था। इस वजह से अभी भी ट्रैफिक जाम लगा है।
जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर लैंडस्लाइड, अमरनाथ यात्रा रुकी
शुक्रवार रात जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर लैंडस्लाइड के कारण कई गाड़ियां फंस गईं। नेशनल हाईवे के एसएसपी ट्रैफिक संजय कोटवाल ने कहा, ”उधमपुर में खेरी के पास शुक्रवार रात लैंडस्लाइड के कारण ट्रैफिक रोक दिया गया।” इस वजह से शनिवार को अमरनाथ यात्रा भी रोक दी गई है। ऑथरिटी ने जम्मू बेस कैंप में ही श्रद्धालुओं को रोक दिया है। लैंडस्लाइड के कारण हाईवे पर जमा मलबे को हटाने के लिए बॉर्डर रोड्स ऑर्गनाइजेशन (बीआरओ) लगातार काम कर रहा है। अफसरों का कहना है कि शनिवार शाम से पहले मलबा हटा पाना मुश्किल है।