हिमालय में चायवाले ने कहा- मिठाई खाइए, अटलजी ने बम फोड़ दिया है: मोदी

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ‘रामचरित मानस’ का डिजिटल वर्जन जारी किया। इस मौके पर मोदी ने ऑल इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) की खूब तारीफ की। इसकी ताकत बताते हुए मोदी ने अटल सरकार के वक्‍त पोकरण (राजस्‍थान) में परमाणु परीक्षण किए जाने से जुड़ा एक वाकया सुनाया। उन्‍होंने कहा कि कई साल पहले वह हिमालय पर गए। एक जगह चाय पीने के लिए रुके तो चायवाले ने कहा, ‘साहब मिठाई खाइए’। मैंने पूछा क्यों, तो वह बोला. “साहब, अटल जी ने बम फोड़ दिया है।” मोदी ने कहा, ‘यह है आकाशवाणी की ताकत, यह देश को जोड़ती है।’
62 घंटे का डिजिटल रामचरित मानस
डिजिटल रामचरित मानस में 62 घंटे की रिकॉर्डिंग है। इसे एआईआर ने भोपाल में 14 गायकों की आवाज में रिकॉर्ड कराया है।
मोदी ने इसके लिए एआईआर को बधाई देते हुए कहा, “22 साल की कड़ी मेहनत के बाद यह सामने आया है, इस काम में जुड़े सभी लोग बधाई के पात्र हैं।’ मोदी ने कहा कि समाज-व्‍यवस्‍था और परिवार-व्‍यवस्‍था का सबसे अच्‍छा उदाहरण रामचरितमानस है और इसके आदर्श आज भी मौजूद हैं। यह ग्रंथ मर्यादा और संस्‍कार की शिक्षा देती है।
मोदी ने कहा कि यह पूरी दुनिया में पढ़ी जाती है। उन्‍होंने एक विदेशी परिवार की कहानी सुनाई जो रामचरितमानस से इतने प्रभावित हुआ कि अपने बच्‍चों के नाम राम और सीता रख लिए।
मॉरिशस और वेस्ट इंडीज का भी जिक्र
पीएम ने मॉरिशस और वेस्ट इंडीज जैसे देशों का जिक्र करते हुए बताया कि वहां आज भी लोग अपने बच्चों का नाम भगवान राम के नाम पर रखते हैं और उनके घरों में आज भी यह ग्रंथ मिलता है।