हेलिकॉप्टर डील: खुद पर उठे सवाल तो राहुल ने कहा- टारगेट बनने से खुश हूं

नई दिल्ली.अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकाप्टर डील में सोनिया के बाद राहुल गांधी भी बीजेपी के निशाने पर आ गए हैं। बीजेपी का आरोप है कि राहुल के करीबी और टॉप एडवाइजर कनिष्क सिंह के डील के मिडिलमैन से लिंक थे। इस पर राहुल ने कहा, ”मुझे हमेशा से निशाना बनाया जाता रहा है। टारगेट बनने से खुश हूं।”
बीजेपी सांसद ने क्या आरोप लगाए…
– बीजेपी एमपी किरीट सौमेया ने आरोप लगाया- ‘राहुल के एडवाइजर कनिष्क सिंह और अगस्टा डील के एक मिडिलमैन के बीच लिंक थे।’
– बता दें कि एम्मार एमजीएफ का नाम कॉमनवेल्थ गेम्स में हुए करप्शन से जुड़े मामलों में भी आया था। सोमैया का दावा है कि कनिष्क के परिवार ने एम्मार को खड़ा किया।
– सौमेया ने बताया कि हेशके एम्मार एमजीएफ के लिए अपनी सर्विसेस दे चुका है। 2009 में वह कंपनी का डारेक्टर था। अगस्ता डील 2010 की है। ऐसे में इस शिकायत को इग्नोर कैसे किया जा सकता है।
– उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस उस वक्त सरकार में थी। इसलिए इस मामले को दबा दिया गया।
– सौमेया ने कहा- ‘क्या राहुल उनके और कनिष्क सिंह के बीच के करीबी रिश्ते को नकार सकते हैं? क्या राहुल को जवाब देना होगा कि कैसे और क्यों हेशके कंपनी के डारेक्टर बने थे?
कौन हैं कनिष्क सिंह?
 – कनिष्क सिंह राहुल गांधी के टॉप एडवाइजर में से एक हैं।
– सौमेया ने आरोप लगाया कि एम्मार एमजीएफ कंपनी को कनिष्क के परि‍वार ने खड़ा किया था।
– कनिष्क सिंह ने आरोपों को झूठा बताया है। उन्होंने कहा- ‘सोमैया ऐसे आरोप 2013 से लगाते आ रहे हैं।’
– ‘मेरे परिवार की एम्मार एमजीएफ में पहले न कोई हिस्सेदारी थी और न अब है। और न ही मेरे परिवार के अगस्ता डील के आरोपी मिडिलमैन जी. हेशके से या उससे जुड़े किसी व्यक्ति से रिलेशन थे।’
– कांग्रेस स्पोक्सपर्सन रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सौमेया के इन आरोपों को बकवास करार दिया है।
सरकार ने क्या कहा?
 – टारगेट बनने पर खुशी जाहिर करने के राहुल के बयान पर केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने कहा, ”कई लोगों को विक्टिम बनने में मजा आता है। अगर वे खुद को विक्टिम के तौर पर पेश करना चाहते हैं तो उनका स्वागत है।”
डील को लेकर संसद में हंगामा
 – अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकाप्टर सौदे पर राज्यसभा में बुधवार को चर्चा होगी।
– इस मसले पर बीजेपी कांग्रेस पर आक्रमक रूख अपनाए हुए है।