1 जुलाई से बदलने वाले हैं रेलवे के नियम, अब ऑनलाइन वेटिंग टिकट नहीं मिलेगा

नई दिल्ली. रेलवे की रिजर्वेशन प्रोसेस में 1 जुलाई से नए नियम लागू होने जा रहे हैं। कुछ फैसिलिटी भी बढाई जा रही हैं। बदले नियमों के तहत ऑनलाइन बुकिंग पर वेटिंग टिकट नहीं मिलेगा। साथ ही शताब्दी, राजधानी जैसी दूसरी कई ट्रेनों में कोच बढ़ाए जाएंगे। तत्काल टिकट का रिजर्वेशन कैंसिल करवाने पर अब आधा रिफंड मिलेगा। रीजनल लैंग्वेज में भी टिकट मिलेंगे।
और क्या बदलाव करने जा रहा है रेलवे…
– रेलवे पहले ही एलान कर चुका है कि 1 जुलाई से राजधानी, शताब्दी, दुरंतो और मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों की तर्ज पर सुविधा ट्रेनें चलेंगी।
– ये ट्रेनें देश के अहम और बिजी रूटों पर प्रीमियम ट्रेनों की जगह चलाई जाएंगी।
– ट्रेन में पैसेंजर के लिए वेकअप कॉल डेस्टिनेशन फैसिलिटी शुरू की जाएगी।
ये 7 बदलाव होंगे
1. सुविधा ट्रेनें
– 1 जुलाई से शुरू होने जा रही इन ट्रेनों में पैसेंजर्स को वेटिंग टिकट नहीं मिलेगा। इन ट्रेनों में सभी को कन्फर्म टिकट दिया जाएगा। टिकट कैंसल कराने पर आधा पैसा वापस मिलेगा।
2. कैंसिलेशन
– एसी फर्स्ट और सेकंड का टिकट कैंसल कराने पर 100 रुपए अतिरिक्त काटे जाएंगे।
– एसी थर्ड के लिए 90 रुपए और स्लीपर क्लास का टिकट कैंसल कराने पर 60 रुपए काटे जाएंगे।
– तत्काल टिकट कैंसल कराने पर अब 50% किराया वापस होगा। यानी अब पूरे पैसों का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।
3. पेपरलेस टिकटिंग
– राजधानी और शताब्दी ट्रेनों के लिए 1 जुलाई से पेपरलेस टिकट मिलेगी। इन ट्रेनों में मोबाइल टिकट वैलिड रहेगा।
4. तत्काल बुकिंग टाइमिंग
– एक जुलाई से तत्काल बुकिंग की टाइमिंग बदलेगी। एसी कोच के लिए तत्काल विंडो सुबह 10 बजे से 11 बजे तक खुलेगी।
– स्लीपर कोच के लिए सुबह 11 बजे से 12 बजे के बीच तत्काल बुकिंग करा सकेंगे।
5. कोच बुकिंग
– रेलवे विभाग के नए नियमों के तहत कोई भी व्यक्ति 50 हजार रुपए में सात दिनों के लिए एक कोच बुक करवा सकता है।
– वहीं नौ लाख रुपए देकर कोई भी व्यक्ति या ऑर्गनाईजेशन सात दिनों के लिए 18 डिब्बों की पूरी ट्रेन बुक करवा सकता है।
– अगर उसे 18 डिब्बों से ज्यादा की जरूरत होगी, तो एक कोच के लिए 50 हजार रुपए एडिशनल जमा करवाकर कोच ले सकता है।
– इसके अलावा यदि सात दिन से ज्यादा कोच या रेलगाड़ी की लेनी हो तो इसके लिए रोजाना के हिसाब से एक कोच के 10 हजार रुपए देने होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *