2020 का चुनाव तेजस्वी के नाम पर लड़ेगी RJD, लालू ने कहा- उसे सब पसंद करते हैं

पटना.लालू प्रसाद की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने 2020 के असेंबली इलेक्शन की तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी अगला चुनाव पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के नाम पर लड़ेगी। लालू प्रसाद यादव ने इसके संकेत दिए हैं। लालू ने कहा- “तेजस्वी को लोग पसंद कर रहे हैं। जनता उन्हें सुनना चाहती है। मैं उसका नाम सिर्फ इसलिए नहीं ले रहा कि वह मेरा बेटा है। उसने अपनी काबिलियत साबित की है। अभी किसी के नाम का एलान नहीं किया जा रहा है। वक्त आएगा तो पार्टी के सभी नेता एक साथ फैसला लेंगे।
आरजेडी में लालू के बाद तेजस्वी यादव नंबर दो
– तेजस्वी यादव पार्टी में नंबर दो पोजिशन पर है। राज्य में महागठबंधन टूटने के बाद लालू ने तेजस्वी को विपक्ष का नेता बनाया है। विधानसभा से लेकर सड़क तक तेजस्वी ने नीतीश कुमार के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया था।
– तेज प्रताप ने गुरुवार को कहा कि मैंने तो पहले ही अपने छोटे भाई को आशीर्वाद दे दिया है। मैंने मंच पर इसके लिए शंखनाद भी किया था। वह मेरा छोटा भाई है। बड़े भाई के नाते मैं जीवन भर उसे सपोर्ट करूंगा।
रामचंद्र पूर्वे ने बताया था 2020 का नेता
– पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव में तेजस्वी को नेता बनाने की बात की थी। इसके बाद पार्टी के सीनियर लीडर अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा था कि वह पूर्वे की निजी राय है।
– उधर, सीनियर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि हमारा सीएम उम्मीदवार सबकी राय से तय होगा। वैसे विपक्ष के नेता के रूप में तेजस्वी यादव इसके स्वाभाविक दावेदार हैं।
जेडीयू ने कहा- तेजस्वी पिता की तरह राजनीतिक कारावास भुगतेंगे
– जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि तेजस्वी दागी हैं। सीबीआई ने साक्ष्य के साथ उन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। हमें पूरा भरोसा है कि 2020 तक तेजस्वी पिता की तरह राजनीतिक कारावास भुगतने को मजबूर हो जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने भी दागी नेताओं पर कार्रवाई करने को कहा है।
– यह साफ है कि लालू अपने परिवार के बाहर के किसी और व्यक्ति को आगे नहीं बढ़ा सकते। उनकी राजनीति अपने परिवार के दायरे से बाहर नहीं जाती।
बीजेपी ने कहा- परिवार से आगे नहीं सोच सकते लालू
– बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा- “लालू परिवारवाद को बढ़ा रहे हैं। मुख्यमंत्री हो उप मुख्यमंत्री हो या विपक्ष का नेता सभी पोस्ट लालू अपने परिवार के लोगों को ही देते हैं।”
– “लालू ने अपनी पार्टी में कभी परिवार से बाहर के व्यक्ति को आगे नहीं बढ़ाया। लालू की नजर में किसी पार्टी के दूसरे नेताओं और कार्यकर्ताओं की कोई अहमियत नहीं है।”