22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से कहा- वीवीपैट का मिलान वोटों की गिनती से पहले हो, बाद में नहीं

एग्जिट पोल्स के नतीजों में एनडीए को बहुमत मिलता देख विपक्षी दल ईवीएम पर सवाल उठाने लगे हैं। वे 50% ईवीएम और वीवीपैट की पर्चियों के मिलान की मांग कर रहे हैं। इस संबंध में 22 विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग से मुलाकात की। विपक्षी नेताओं ने कहा कि वीवीपैट की पर्चियों का मिलान वोटों की गिनती से पहले हो, बाद में नहीं। और, किसी भी विधानसभा क्षेत्र में चुने गए 5 पोलिंग स्टेशनों पर कोई भी गड़बड़ी मिलती है तो 100% वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाए।

उधर, सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम और वीवीपैट पर्चियों के मिलान की मांग वाली याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट ने कहा कि वह जनप्रतिनिधियों को चुनने की राह में हम आड़े नहीं आएगा। यह याचिका कुछ टेक्नोक्रेट्स ने लगाई थी।

अफजाल अंसारी के आरोप चुनाव आयोग ने खारिज किए

उत्तरप्रदेश के गाजीपुर से गठबंधन प्रत्याशी अफजाल अंसारी की ओर से ईवीएम की सुरक्षा पर उठाए गए सवालों को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया। आयोग ने कहा है कि ईवीएम-वीवीपैट को पार्टियों के सामने सील किया गया। इसकी वीडियोग्राफी कराई गई। स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर सीसीटीवी लगे हैं। सीएपीएफ के जवान तैनात हैं। ऐसे में सभी आरोप आधारहीन हैं। इससे पहले सोमवार रात अफजाल ने ईवीएम में गड़बड़ी की आशंका जताते हुए गाजीपुर में स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर हंगामा किया और धरने पर बैठ गए। इस सीट पर बाबुबली मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल का केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा से मुकाबला है।

एनडीए को बहुमत मिलने का अनुमान

लोकसभा चुनाव के 10 में से नौ एग्जिट पोल्स ने एनडीए को स्पष्ट बहुमत दिया है। 18 मई को भी नायडू ने चुनाव आयोग से ईवीएम की जगह वीवीपैट से गिनती कराने की मांग की थी। उनके अलावा, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आप नेता संजय सिंह, कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी, कांग्रेस नेता राशिद अल्वी, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, राजद नेता तेजस्वी यादव ने भी एग्जिट पोल और ईवीएम पर सवाल उठाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *