4 लोग रोक सकते थे रेल हादसा, बच जातीं 37 जानें,

भोपाल। हरदा के पास कामायनी और जनता एक्सप्रेस रेल हादसे को लेकर कहा जा रहा है कि ट्रैक के ऊपर से बाढ़ का पानी बहने के कारण यह दुर्घटना हुई है। रेलवे ट्रैक पर पानी होने की सूचना रेल अधिकारियों के पास नहीं पहुंची थी। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने भी पुल पर से पानी बहने के कारण हादसे की संभावना जताई है। क्या ये राज्य सरकार के अधिकारियों और रेलवे के बीच समन्वय न होने की वजह से हुआ है या फिर कुछ और वजह है, ये तो जांच के बाद ही पता चलेगा, लेकिन यदि थोड़ी-सी सावधानी रखी जाती तो यह हादसा टल सकता था।
बताया जा रहा है कि हरदा जिले में तेज बारिश हो रही थी। कामायनी एक्सप्रेस के पुल पर आने से दस मिनट पहले ही एक ट्रेन यहां से गुजरी थी, तब पानी पुल पर नहीं पहुंचा था। तेजी से और लगातार हो रही बारिश के बावजूद रेलवे ने ट्रैक पर नजर नहीं रखी। रेलवे का तर्क है कि आठ मिनट पहले उसी ट्रैक से एक ट्रेन गुजरी थी, जिससे जाहिर है कि ट्रैक में पानी अचानक आया है।
dainikbhaskar.com रेलवे और सिंचाई विभाग के अधिकारियों से बातचीत करके आपको बता रहा है कि कैसे इस भीषण हादसे को टाला जा सकता था और हादसे को रोकने के लिए किसकी क्या जिम्मेदारी थी?