42 महीने के सबसे निचले स्तर पर महंगाई, 4.7 फीसदी हुई

नई दिल्ली: थोक मूल्य आधारित महंगाई दर मई महीने में घटकर 4.7 फीसदी हो गई। यह दर पिछले महीने 4.89 फीसदी और पिछले साल मई में 7.55 फीसदी थी। यह 42 महीने का सबसे निचला स्तर है।

थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई दर में पिछले कुछ महीनों में लगातार नरमी दर्ज की गई है। इससे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा मौद्रिक नीति में नरमी बरतने की उम्मीद जगी है।

tatpar 14 june 13

रिजर्व बैंक 17 जून को मौद्रिक नीति समीक्षा की घोषणा करने वाला है। इससे पहले की लगातार तीन समीक्षाओं में बैंक ने मुख्य ब्याज दर में कटौती की है।

ताजा महंगाई दर में नरमी का प्रमुख कारण विनिर्मित और प्राथमिक वस्तुओं की कीमतों में धीमी वृद्धि है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा यहां जारी आंकड़ों के मुताबिक मई महीने में विनिर्मित वस्तुओं की महंगाई दर घट कर 3.11 फीसदी रही, जबकि प्राथमिक वस्तुओं के लिए यह दर घटकर 6.65 फीसदी रही। खाद्य महंगाई दर घटकर 8.25 फीसदी रही। ईंधन और बिजली क्षेत्र में महंगाई दर 7.87 फीसदी रही।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा इस सप्ताह के शुरू में जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई दर घटकर 9.31 फीसदी रही, जो पिछले महीने 9.39 फीसदी थी और मार्च में 10.39 फीसदी थी।