52 नई औषधियों को सरकार ने मूल्‍य नियंत्रण तंत्र के अंतर्गत लिया

सरकार ने आवश्यक दवाइयों की कीमतों पर रोक लगाने के लिए 52 नई औषधियों को अपने मूल्य नियंत्रण तंत्र के अंतर्गत ले लिया है। इनमें आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली दर्द निवारक और एन्टिबायोटिक दवाइयां

और कैंसर तथा चर्म रोगों के इलाज में फायदेमंद औषधियां शामिल हैं। इस नये कदम से चार सौ पचास से अधिक औषधियों के पैक अब राष्ट्रीय फार्मास्यूटिकल मूल्य प्राधिकरण, एनपीपीए के मूल्य नियंत्रण तंत्र के तहत आ गए हैं। एनपीपीए ऐसी दवाइयों की मूल्य सीमा और खुदरा कीमतों को तय करता है। एनपीपीए ने कल कहा कि उसने औषधि मूल्य नियंत्रण आदेश, 2013, डीपीसीओ के तहत 52 औषधियों की कीमतें तय की हैं।