6 आतंकियों को मारने वाले शहीद निराला को अशोक चक्र, सम्मान देते हुए भावुक हुए राष्ट्रपति

नई दिल्ली. कश्मीर में शहीद होने वाले एयरफोर्स कमांडो कॉर्पोरल ज्योति प्रकाश निराला को अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने निराला की पत्नी और मां को ये सम्मान दिया। इस दौरान राष्ट्रपति भावुक हो गए। ज्योति प्रकाश 18 नवंबर 2017 को लश्कर-ए-तैयबा आतंकियों के खिलाफ एक ऑपरेशन में शामिल थे। ज्योति ने इसमें 6 आतंकियों को मार गिराया था। इन टेररिस्ट्स में लश्कर चीफ और 26/11 अटैक के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी का भतीजा भी शामिल था। एनकाउंटर के दौरान फायरिंग में ज्योति शहीद हुए थे।

कौन हैं शहीद ज्योति प्रकाश निराला?

– निराला रोहतास जिले (बिहार) के बदलाडीह गांव के रहने वाले थे। परिवार में पत्नी, छोटी बेटी, बीमार माता-पिता और तीन बहनें हैं।

– वे आर्मी की काउंटरजेंसी फोर्स में IAF के गरुड़ कमांडो के तौर पर राष्ट्रीय रायफल्स में अटैच्ड थे। पिछले साल से ही गरुड़ कमांडोज आर्मी के ग्राउंड ऑपरेशंस में हिस्सा बन रहे हैं। गरुड़ कमांडोज की छोटी टुकड़ी को आर्मी के साथ अटैच्ड करने का फैसला जनवरी 2016 में पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के बाद लिया गया। तब से ऑपरेशंस के दौरान 3 गरुड़ कमांडोज शहीद हो चुके हैं।

कब हुआ था एनकाउंटर?
– 18 नवंबर 2017 को हाजीन (कश्मीर) में एनकाउंटर हुआ था। फोर्सेस इंटेलिजेंस से मिले इनपुट के बाद सर्च ऑपरेशन कर रही थीं। चंद्रगढ़ गांव में जवानों ने एक घर को घेर लिया। तभी उसमें छिपे आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी थी।
– निराला के पास एक लाइट मशीनगन थी। एनकाउंटर के दौरान गोली लगने के बावजूद उन्होंने दो आतंकवादियों को मार गिराया था। इस एनकाउंटर में 6 टेररिस्ट मारे गए थे।

निराला से पहले IAF के किन अफसरों को मिला अवॉर्ड?
– 1971 की जंग के दौरान अदम्य साहस दिखलाने के लिए फ्लाइंग अफसर निर्मलजीत सिंह सेखों को परमवीर चक्र दिया गया था।
– 1984 में स्क्वॉड्रन लीडर राकेश शर्मा को देश का पहला अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *