7th पे कमीशन : इंक्रीमेंट रोकना सर्विस रूल बदले बिना मुश्किल, 25% तक बढ़ेगी सैलरी

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने 7th पे कमीशन के नोटिफिकेशन में कहा है कि काम न करने वाले कर्मचारियों को सालाना इंक्रीमेंट नहीं मिलेगा। पर यह इतना आसान भी नहीं होगा। मौजूदा नियमों के तहत ऐसा करना मुमकिन नहीं होगा। इसके लिए सरकार को रूल्स बदलने पड़ेंगे। यह सोचना भी गलत है कि सैलरी दोगुना हो जाएगी। अफसरों ने बताया कि यह ज्यादा से ज्यादा 25 परसेंट तक बढ़ेगा।(7th पे कमीशन का पूरा नोटिफिकेशन पढ़ने के लिए क्लिक करें) सरकार नोटिफिकेशन के जरिए बदल सकती है रूल…
– पूर्व कैबिनेट सेक्रेटरी और प्लानिंग कमीशन के मेंबर रहे बीके चतुर्वेदी ने बताया कि यह बेहद मुश्किल काम है।
– हालांकि सरकार चाहेगी तो नोटिफिकेशन लाकर रूल बदल सकती है। पर अचानक से इसे लागू नहीं किया जा सकता है।
– चतुर्वेदी मानते हैं कि इससे कामकाज सुधरेगा। पर किसी का इवेलुएशन एक साल में नहीं हो सकता है। इसमें कम से कम 7-8 साल लगते हैं।
निचले स्तर के कर्मचारी नहीं होंगे प्रभावित
– बीएमएस (भारतीय मजदूर संघ) के रीजनल ऑर्गनाइजेशन के सेक्रेटरी पवन कुमार का कहना है कि यह तय करना कि किस ने काम किया और किसने नहीं, मुश्किल है।
– हालांकि, इस रूल से निचले स्तर के इम्प्लॉइज कम ही प्रभावित होंगे। डायरेक्टर और ऊपर के ऑफिसर्स पर ज्यादा असर होगा। इनके काम का अब भी कई तरह से इवेलुएशन होता है।
– अचानक से किसी का इंक्रीमेंट रोकना नेचुरल जस्टिस के नियम के खिलाफ भी होगा। इससे कोर्ट केस भी बढ़ेंगे। ऐसे में नए नियम बनाकर उन्हें नोटिफाई भी करना होगा।
नए सिस्टम से बनेगा काम करने का माहौल
– पूर्व लेबर सेक्रेटरी और प्लानिंग कमीशन की मेंबर सेक्रेटरी सुधा पिल्लई ने कहा कि नया सिस्टम लागू हुई तो काम करने का माहौल बदलेगा।
– लेकिन यदि किसी को अगर यह कहना है कि आप काम नहीं करते हैं तो उसे बताना होगा कि आप कैसे काम नहीं कर रहे। उसे जवाब का अवसर देना होगा।
कार्मिक मंत्रालय के अफसरों से बातचीत, Q&A में पढ़ेंसैलरी नहीं होगी दोगुनी
Q. क्या सैलरी दोगुना या ढाई गुना हो जाएगी?
A.नहीं। आपका वेतन ज्यादा से ज्यादा 24-25% तक ही बढ़ेगा।
Q. तो फिर यह बात कैसे हो रही है?
A.असल में पे कमीशन की सिफारिशों की कैल्कुलेशन पिछले पे कमिशन के मुताबिक होती है। 2016 के इस पे कमीशन ने जो सिफारिश की है उसकी तुलना वर्ष 2006 के वेतन आयोग से की गई है। ऐसे में यह अंतर उस समय के पे स्केल और अब के पे स्केल के बीच का है।
Q. इससे मेरे एचआरए या गवर्मेंट हाउस बिल पर क्या असर होगा?
A.बहुत ज्यादा नहीं। यह आपकी सैलरी में हुई हाइक के आधार पर होगा। आपकी सैलरी कितनी बढ़ी है एचआरए उस पर डिपेंड करेगा।
Q. काम के आधार पर प्रमोशन रोकने और नौकरी से निकालने से क्या नौकरी असुरक्षित नहीं हो गई है?
A.यह काम 20 साल की लगातार निगरानी के आधार पर सामने आई इवेलुएशन के आधार पर होगा। इसका मकसद सरकारी काम में तेजी लाना और सरकारी सेवाओं की डिलीवरी बेहतर करना है। सरकार ने सालाना इंक्रीमेंट को भी कामकाज के आधार पर रोकने का फैसला किया है। पर इसको लेकर कहा जा रहा है कि सरकार इसके लिए सर्विस रूल्स में पहले बदलाव करेगी या फिर कोई नोटिफिकेशन लाकर इसकी घोषणा करेगी। हालांकि इससे इम्प्लॉइज को नुकसान नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *