AIIMS में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ‘हम सिर्फ पत्थर जड़ने नहीं, बदलाव के लिए आए हैं’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार का विजन कम खर्च पर देश के हर व्यक्ति को इलाज सुनिश्चित करना तथा बीमारी के कारणों को खत्म करना है और पिछले चार वर्षों में इसी दिशा में कदम उठाए गए हैं। एम्स और सफदरजंग अस्पताल में अत्याधुनिक सुविधाओं एवं योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हम सिर्फ पत्थर जड़ने नहीं आए हैं, बल्कि बदलाव के लिए आए हैं। हम जो कर सकते हैं, वही कहते हैं।

मोदी ने इस संदर्भ में संसद में पूर्व में रेल बजट में घोषित योजनाओं के संदर्भ में कहा कि 1500 घोषित परियोजनाओं का काम केवल कागजों पर सीमित था। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार का प्रयास है कि बड़े शहरों के आसपास स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को सुदृढ़ करने के साथ-साथ ऐसी ही सुविधाएं टीयर 2 और टीयर 3 शहरों तक पहुंचाई जाए। मौजूदा अस्पतालों को और सुविधाओं से लैस किया जा रहा है। दूर-दराज वाले इलाकों में स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाई जा रही हैं।

पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार के एक के बाद एक नीतिगत पहल से देश उस स्थिति की तरफ बढ़ रहा है, जहां गरीब और मध्यम वर्ग को बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भटकना नहीं पड़ेगा और न ही अनावश्‍यक खर्च उठाने पड़ेंगे। उन्‍होंने 58 जिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेज के तौर पर अपग्रेड करने की बात भी कही।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दिल्ली में एम्स पर बढ़ते दबाव को देखते हुए उसके सभी कैंपसों की क्षमता बढ़ाई जा रही है। आज 300 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनने वाले नेशनल सेंटर फॉर एजिंग का शिलान्यास हुआ है। यह सेंटर 200 बिस्तरों वाला होगा।

उन्‍होंने कहा कि सफदरजंग अस्पताल में भी 1300 करोड़ खर्च करके अस्पताल को आधुनिक बनाने का काम हुआ है। यहां एक इमरजेंसी ब्लॉक और एक सुपर स्पेशिलियटी ब्लॉक की सेवाओं को देश को समर्पित किया गया।