पहला मैच जीत तो गई टीम इंडिया, लेकिन इन बातों पर देना होगा ध्यान

खेल डेस्क. टीम इंडिया ने मेजबान जिम्बाब्वे को रोमांचक मुकाबले में 4 रन से हरा दिया। भारत ने पहले बैटिंग करते हुए अंबाती रायुडू (124*) के करियर की दूसरी सेन्चुरी और स्टुअर्ट बिन्नी (77 रन और दो विकेट) के ऑलराउंड प्रदर्शन से जिम्बाब्वे के सामने 256 रनों का टारगेट रखा। जवाब में मेजबान कप्तान एल्टन चिगुंबरा (104*) की साहसिक पारी के बावजूद निर्धारित 50 ओवर्स में सात विकेट खोकर 251 रन ही बना सकी। जिम्बाब्वे को आखिरी ओवर में जीत के लिए मात्र दस रन की जरूरत थी, लेकिन भुवनेश्वर ने शानदार बॉलिंग करते हुए भारत को जीत दिला दी। रायुडू को मैन ऑफ द मैच चुना गया।
पहले मैच में टीम इंडिया ने जीत दर्ज करते हुए 3 वनडे की सीरीज में 1-0 की बढ़त भले ही ले ली है, लेकिन जिम्बाब्वे ने कई मामले में उससे बेहतर प्रदर्शन किया। अगर अंतिम ओवर्स में चिगुंबरा को दूसरे छोर से थोड़ा भी साथ मिला होता तो मैच का रिजल्ट पलट सकता था। रायुडू, बिन्नी और अक्षर पटेल को छोड़ दिया जाए तो टीम इंडिया के बाकी प्लेयर्स कोई खास असर नहीं छोड़ सके।
इन पांच बातों पर देना होगा ध्यान
* स्ट्रैटजी पर फोकस
* टॉप ऑर्डर बैटिंग में सुधार
* बॉलिंग में लानी होगी धार
* भज्जी नहीं उतरे भरोसे पर खरे
* अग्रेसिव नहीं दिखी टीम इंडिया
1. स्ट्रैटजी पर फोकस
मैच में जो सबसे बड़ी बात रही वह है अजिंक्य रहाणे की स्ट्रैटजी। रॉबिन उथप्पा के रहते उनका खुद ओपनिंग पर उतरना समझ से परे रहा। उथप्पा अग्रेसिव ओपनर माने जाते हैं। वे आईपीएल में केकेआर के लिए ओपनिंग ही करते हैं। इससे पहले वे टीम इंडिया के लिए ओपनिंग कर चुके हैं। ऐसे में, रहाणे को उथप्पा को प्रमोट करना चाहिए था और अगर रहाणे खुद मिडल ऑर्डर में आते तो ज्यादा बेहतर होता, क्योंकि वे शिखर और रोहित की मौजूदगी में मिडल ऑर्डर में ही उतरते हैं। हालांकि, उथप्पा बिना खाता खोले रन आउट हुए।
कप्तान रहाणे ने ये कहा जीत के बाद
कप्तान रहाणे ने जीत के बाद कहा, “हमने अच्छा खेला। जिम्बाब्वे के गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे और शुरुआत में बल्लेबाजी करना आसान नहीं होता है। अंबाती रायुडू ने शानदार शतक लगाया। हम जानते थे कि 255 के स्कोर का बचाव किया जा सकता है और गेंदबाजों को उसका पूरा श्रेय जाता है। टीम में लंबे समय के बाद वापसी करने वाले हरभजन सिंह और युवा लेफ्ट आर्म स्पिनर अक्षर पटेल ने संयमित गेंदबाजी की। मैच के अंतिम क्षण तनाव भरे थे, लेकिन फाइनली हमने संयम से काम लिया और जीत हासिल की।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *