BJP के पक्ष में वोट करने वाले BSP MLA को ‘रिटर्न गिफ्ट’- योगी सरकार ने दी Y कैटेगरी सुरक्षा

अनिल सिंह ने 24 मार्च को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी और अपने लिए सुरक्षा की मांग की थी। इसके बाद गृह विभाग की ओर से आदेश जारी किया गया और विधायक को वाई कैटेगरी की सुरक्षा दी गई।

राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के कैंडिडेट को वोट देने वाले बीएसपी एमएलए को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने तोहफा दिया है। राज्य सरकार ने उन्हें Y (वाई) कैटेगरी की सुरक्षा दी है। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव के दौरान ऐसे समीकरण बने कि बीएसपी विधायक का वोट अहम हो गया। बीएसपी उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर की हार के लिए जिम्मेदार कई तत्वों में अनिल सिंह के वोट का अहम रोल रहा। अनिल सिंह ने 24 मार्च को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी और अपने लिए सुरक्षा की मांग की थी। इसके बाद गृह विभाग की ओर से आदेश जारी किया गया और विधायक को वाई कैटेगरी की सुरक्षा दी गई।

बता दें कि 25 मार्च को अनिल सिंह के परिवार पर हमला भी हुआ था। एएनआई के मुताबिक उन्नाव के असोहा इलाके में अनिल सिंह के भाई दिलीप पर बंदूक की नोंक के बल पर हमला किया गया। खबरों के मुताबिक कार में सवार होकर कुछ लोग आए थे, इन्होंने दिलीप और उनके परिवार वालों को पीटा फिर फारर हो गये। हमला उस वक्त किया गया था जब दिलीप अपने परिवार के सदस्यों के साथ लखनऊ की ओर जा रहे थे।

इधर मायावती द्वारा पार्टी से सस्पेंड किये जाने के बाद अनिल सिंह ने कहा कि उन्होंने बीजेपी को वोट देकर क्षत्रिय धर्म का पालन किया है। अनिल सिंह ने कहा कि उन्होंने वही किया जो उनके क्षेत्र की जनता चाहती थी। इससे पहले बीजेपी उम्मीदवार को वोट देने के बाद अनिल सिंह ने कहा था कि उन्होंने अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनी। बता दें कि उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए चुनाव हुए थे। संख्याबल के मुताबिक इसमें से बीजेपी के 8 उम्मीदवार आसानी से जीत गये। जबकि सपा की ओर से जया बच्चन जीती थीं। 10वें सीट के लिए बहुजन समाज पार्टी ने अपने उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर को खड़ा किया था। जबकि इसी सीट के लिए बीजेपी ने अनिल अग्रवाल को खड़ा किया। इस चुनाव में अनिल अग्रवाल द्वितीय वरीयता के वोटों के आधार पर विजयी घोषित किये गये। चुनाव नतीजों के बाद मायावती ने बीजेपी पर पैसे के बल पर चुनाव जीतने का आरोप लगाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *