BJP बैठक में कार्यकर्ताओं पर रहा फोकस, सीएम ने चुनाव को 20-20 बताया

रायपुर/ अंबिकापुर. कार्यकर्ताओं के दम पर प्रदेश में चौथी बार भी सरकार बनाने के संकल्प के साथ भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक गुरुवार को यहां खत्म हुई। बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा में सीएम ने मिशन 2018 की चुनौती के सवाल पर कहा कि छत्तीसगढ़ की स्थिति ऐसी है कि एक से डेढ़ % के अंतर से सरकार बनती, बिगड़ती है।
यह चुनाव भी क्रिकेट के 20 ट्वंटी मैच की तरह
– सीएम डॉ. रमन सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि जिन कार्यकर्ताओं के दम पर सरकार है, उनकी पूछ परख होनी चाहिए।
– मंत्री हो या पदाधिकारी, यह ध्यान देना चाहिए कि सैकड़ों किलोमीटर से चलकर कोई कार्यकर्ता उनके पास पहुंचता है उसकी समस्या सुनें। सीसी रोड दें या न दें, ट्रांसफर, पोस्टिंग हो या न हो, लेकिन उसे चाय और पानी पिलाकर जरूर भेजें।
– उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं की शिव की तरह आराधना की जाए तो कोई माई का लाल हमें दस साल और सत्ता से अलग नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि चौथी बार भी प्रदेश में सरकार बनाएंगे और कार्यकर्ताओं का इसमें अहम रोल होगा।
कृषि प्रस्ताव पेश, गांव, गरीब और किसानों पर जोर
– सम्मेलन में कृषि प्रस्ताव लाया गया। कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ धान उत्पादन के लिए देश को दिशा दे रहा है।
– पहली बार प्रदेश में जलवायु के आधार पर फसल उत्पादन की योजना बन रही है। प्रदेश को नेशनल डेयरी प्लान फेस एक में शामिल किया गया है।
– गांवों में सरकारी जमीन पर पुरखों के जमाने से मकान बनाकर रह रहे लोगों को एक साल के भीतर पट्‌टा बनाकर दिए जाने का उल्लेख किया गया है।
– किसानों एक माह के अंदर नक्शा, खसरा और बी-1 का नकल देने की बात कही गई है।
बस्तर में काम कर रहे कार्यकर्ताओं को सलाम
– सीएम ने कहा कि इस सम्मेलन से ही इस अभियान में हम सबको लग जाना है।सीएम ने कहा है कि सरगुजा की तर्ज पर बस्तर भी नक्सली हिंसा से मुक्त होगा। सरकार इस दिशा में काम कर रही है।
– जवान मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वहां बारूदी सुरंगों के बीच काम कर रहे लोगों और कार्यकर्ताओं को मैं सलाम करता हूं जो इन परिस्थितियों में भी पार्टी का झंडा उठाए हुए हैं।
डॉ. सिंह ने कहा कि कार्यकर्ता जब चुनाव में जाएंगे तो उन्हें सरकार के कामकाज को लेकर मुंह छिपाना नहीं पड़ेगा। प्रदेश के 1080 बिजली विहीन क्षेत्रों में ढाई साल में बिजली पहुंच जाएगी। अन्य क्षेत्रों में भी इसी तरह के काम होंगे।