Digital India week: 4.5 लाख करोड़ के निवेश की घोषणा, 18 लाख को रोजगार

नई दिल्ली। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया अभियान को लांच कर दिया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि ‘डिजिटल इंडिया’ के साथ भारत , भविष्य का खाका बदलने को तैयार हो गया है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के आगाज के साथ ही देश में 4.5 लाख करोड़ रुपए का निवेश का ऐलान हो गया है और इससे 18 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। मोदी ने कहा कि दुनिया में बदलाव आ रहा है, हमें इस बदलाव को समझने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस डिजिटल क्रांति से हर नागरिक का सपना पूरा होगा। गांव-गांव इंटरनेट से जुड़ जाएंगे।
उद्योगपतियों ने किया भारी निवेश का ऐलान
इससे पहले प्रधानमंत्री ने भारत के लोगों को सशक्त बनाने और सूचना प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से सेवाओं में सुधार के उद्देश्य से बुधवार को डिजिटल इंडिया सप्ताह लॉन्च कर दिया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने ईडीएफ पॉलिसी डॉक्युमेंट के साथ ही डिजिटल इंडिया बुक को भी लॉन्च किया। इसके साथ ही तमाम डिजिटल सेवा सुविधाएं शुरू हो गई हैं। डिजिटल इंडिया वीक के आगाज से उत्साहित रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. (आरआईएल) के चेयरमैन मुकेश अंबानी, आदित्य बिड़ला समूह के प्रमुख कुमार मंगलम बिड़ला, भारती समूह के प्रमुख सुनील भारती मित्तल, वेदांता समूह के चेयरमैन अनिल अग्रवाल, एडीएजी के प्रमुख अनिल अंबानी सहित कई दिग्गज उद्योगपतियों ने देश में अरबों रुपए के निवेश का ऐलान किया है।
सरकारी सेवाओं का लाभ जनता तक पहुंचाने में मिलेगी मदद
मोदी ने कहा कि देश की विरासत को तकनीक से जोड़ना बेहद जरूरी है और सरकार का यह कर्तव्य है कि देश में कोई भी तकनीक से वंचित नहीं रहे। आगे से लोग वहीं बसना पसंद करेंगे, जहां ऑप्टिकल फाइबर का नेटवर्क होगा। इससे आम जनता तक सरकारी सेवाओं का लाभ पहुंचाने में मदद मिलेगी।
मोबाइल पर होगी बैंकिंग और कारोबार
हमें ई-गवर्नेंस से एम-गवर्नेंस की ओर रुख करना होगा। एम-गवर्नेंस का मतलब है मोबाइल गवर्नेंस। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस योजना से पूरी बैंकिंग प्रणाली में बदलाव होगा। बैंकिंग से जुड़े सभी कामकाज और कारोबार भविष्य में मोबाइल पर ही होंगे। पूरी दुनिया के साथ आगे बढ़ने के लिहाज से यह जरूरी है। सरकार भी पूरी तरह से मोबाइल के जरिए जुड़ी रहेगी।
उद्योग जगत को लाभ, स्टार्ट-अप के लिए आगे आएं युवा
मोदी ने कहा कि हम इसके लिए उद्योग जगत को आमंत्रित करना चाहते हैं। इस अभियान से देश के उद्योग जगत को भी फायदा होगा। हम युवाओं को स्टार्ट-अप के लिए न्यौता देना चाहते हैं और सरकार इसके लिए पूरी मदद देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि भारत जल्द ही स्टार्ट-अप के मामले में अमेरिका के बाद दूसरे पायदान पर होगा।
‘डिजाइन इन इंडिया’ का दिया नारा
मोदी ने देश को एक नया नारा दिया ‘डिजाइन इन इंडिया।’ उन्होंने इसे ‘मेक इन इंडिया’ की तरह ही अहम बताया। उन्होंने कहा कि भारतीय हर बड़ी कंपनी में काम करते हुए नजर आते हैं, लेकिन ‘गूगल’ जैसा अविष्कार भारत में नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि देश में इन्नोवेशन की जरूरत है। युवाओं को इसके लिए आगे आना होगा। युवाओं को उत्पाद तैयार होंगे और दुनिया को इसके लिए विश्वास दिलाना होगा।
साइबर सिक्युरिटी पर जोर
प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया साइबर सिक्युरिटी को लेकर चिंतित है। इसके लिए बेहतर उत्पाद तैयार करने होंगे। इससे देश को सुरक्षा मिलेगी। हमें सुरक्षित व्यवस्थाएं विकसित करने की जरूरत है।
डिजिटल इंडिया का उद्देश्य समृद्ध भारतः प्रसाद
इससे पहले केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने समारोह की शुरुआत करते हुए कहा कि डिजिटल इंडिया का उद्देश्य है समृद्ध भारत, इसका सार है साक्षर भारत। इसके दम पर सशक्त भारत का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रतिभा को आईटी से जोड़कर देश को सशक्त बनाया जा सकता है। वह डिजिटल इंडिया वीक के लॉन्च के मौके पर बोल रहे थे।
इस अभियान से विकास को मिलेगी रफ्तारः जेटली
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि देश के लिहाज से यह बहुत महत्‍वपूर्ण पहल है। डिजिटल इंडिया से अमीर और गरीब के बीच का अंतर स्‍वत: खत्‍म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि गरीबी के खात्मे के लिए 8 से 10 फीसदी की ग्रोथ जरूरी है। मौजूदा विकास दर संतोषजनक नहीं है। डिजिटल इंडिया से देश के विकास को रफ्तार मिलेगी। आज भारत बदलाव के दौर से गुजर रहा है। डिजिटल इंडिया से नागरिकों को स्‍वतंत्र रूप से निखरने का अवसर मिलेगा। उन्होंने कहा, ‘दुनिया में हो रहे बदलाव को देखने की जरूरत है। दुनिया में बड़ी संख्या में रिटेलरों के पास आज एक भी रिटेल स्टोर नहीं है और दुनिया की बड़ी ट्रांसपोर्ट कंपनियों के पास एक भी वाहन नहीं है। यही प्रौद्योगिकी की ताकत है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *