ICICI बैंक की कोचर और विप्रो के CEO प्रेमजी से भी ज्यादा वेतन शास्त्री को

मुंबई. भारतीय क्रिकेट टीम के अगले मुख्य कोच रवि शास्त्री वेतन के मामले में कई बड़ी कंपनियों के सीईओ को पीछे छोड़ने वाले हैं। बोर्ड उन्हें सात कराेड़ रुपए सालाना का भुगतान करेगा जो आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर, अपोलो अस्पताल की सीईअो सुनीता रेड्डी और विप्रो के सीईओ अजीम प्रेमजी से भी ज्यादा है।
शास्त्री भले ही दुनिया के सबसे महंगे क्रिकेट कोच बन जाएंगे, लेकिन फिर भी वे फुटबॉल प्रशिक्षकों की पगार के आसपास भी नहीं आ सकेंगे। फोर्ब्स की 2014-15 के सबसे महंगे प्रशिक्षकों की सूची में फाबियो कापेलो टॉप पर हैं। वे रूस के फुटबॉल कोच हैं और उन्हें 72.18 करोड़ रुपए सालाना मिलते हैं। भारतीय क्रिकेट की नॉन प्लेइंग टीम के अन्य दिग्गजों को भी बड़ी राशि का भुगतान किए जाने की संभावना विशेषज्ञ जता रहे हैं।
बीसीसीआई सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण को सलाहकार बना चुका है। इन्हें दी जाने वाली रकम का फैसला बोर्ड कार्यकारिणी की मीटिंग में होगा। जानकारों के अनुसार यह भी बड़ा आंकड़ा होगा। बोर्ड पदाधिकारियों का कहना है कि ये तीनों इतने बड़े क्रिकेटर हैं कि हम उन्हें कुछ ऑफर करने की स्थिति में नहीं हैं। वैसे बोर्ड की वर्किंग कमेटी इस बारे में अंतिम फैसला करेगी।
527 टेस्ट, 1010 वनडे का अनुभव: भारत के पास दुनिया की सबसे अनुभवी कोचिंग टीम भी हो जाएगी। शास्त्री के मुख्य कोच बनने के बाद बीसीसीआई के पास 527 टेस्ट मैचों के अनुभव वाली कोचिंग टीम हो जाएगी। सचिन ने 200 टेस्ट खेले हैं तो लक्ष्मण, गांगुली व शास्त्री के पास क्रमश: 134, 113 व 80 टेस्ट मैचों का अनुभव है। वनडे मैचों की बात करें तो सचिन (463), गांगुली (311), शास्त्री (150) व लक्ष्मण (86) मिलकर 1010 मैच खेल चुके हैं।
द. अफ्रीकी टेस्ट टीम का अनुभव सिर्फ 426 टेस्ट: एबी डिविलियर्स की कप्तानी वाली द. अफ्रीकी टीम अभी दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम है। इसके सारे खिलाड़ियों का अनुभव जोड़ दिया जाए तो भी बीसीसीआई की कोचिंग टीम का पलड़ा भारी दिखता है। द. अफ्रीका ने जनवरी में इंडीज के खिलाफ पिछला टेस्ट मैच खेला था और उस टीम के सारे खिलाड़ियों ने कुल 426 टेस्ट मैच खेले हैं।