ISIS की धमकी- गाय की पूजा करने वालों को मारकर करेंगे कश्मीर पर कब्जा

काबुल. इस्लामिक स्टेट ने अपनी प्रोपेगैंडा मैगजीन ‘दाबिक’ में कहा है कि आईएस कश्मीर पर कब्जा करेगा और गाय की पूजा करने वाले हिंदुओं को खत्म कर देगा। इससे पहले आईएसआईएस ने मोदी को भी धमकी दी थी।
हिंदुओं और काफिर मुसलमानों की खैर नहीं…
– दाबिक के 13वें एडिशन में अफगानिस्तान-पाकिस्तान रीजन के कमांडर हाफिज सईद खान ने कहा, “इतिहास गवाह है कि इस रीजन में मुसलमानों का शासन रह चुका है।”
– ”लेकिन अब यहां गाय की पूजा करने वाले हिंदू और नास्तिक चीनी रहने लगे हैं।”
– “इन हिंदुओं और काफिर मुस्लिमों को खत्म करने और खलीफा के शासन को बढ़ाने के लिए आईएस तैयारी कर रहा है।”
– “अफगानिस्तान और पाकिस्तान रीजन (अफ-पाक) पर आईएस का कंट्रोल होना बहुत जरूरी है। ये खलीफा और मुसलमानों के शासन को बढ़ाने का गेटवे है।”
पाकिस्तान और लश्कर को दी धमकी
– सईद ने अफ-पाक के पांच एडमिनिस्ट्रेटिव रीजन्स पर आईएस का कब्जा होने का दावा किया है।
– उसने कहा, “इसमें इराक और सीरिया की तरह शरिया कानून के तहत सिविल गवर्नेंस लागू किया जा चुका है।”
– “हम पाकिस्तान और अफगानिस्तान सरकार, तालिबान और लश्कर-ए-तैयबा को चेतावनी देते हैं कि वह खलीफा और जिहाद के बीच में न आए।”
कौन है हाफिज सईद खान?
– हाफिज सईद खान को मुल्ला सईद ओरकजई के नाम से भी जाना जाता है।
– वह पहले तहरीक-ए-तालिबान (टीटीपी) से जुड़ा था। बाद में आईएस से जुड़ गया।
– आईएस ने सईद खान को खुरासान का अमीर बनाया है। उसे रीजन के कमांडर की जिम्मेदारी दी गई है।
– खुरासान प्रोविन्स ईरान में है। आईएस इस पर कब्जा करने की कोशिश में है।
– आईएस अपने शासन को अफगानिस्तान, पाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, भारत और चीन तक फैलाना चाहता है।
पहले भी भारत को मिल चुकी है धमकी
– इससे पहले भी आईएसआईएस ने भारत के खिलाफ जंग की धमकी दी थी। बीते साल आईएस ने मोदी को इस्लाम का दुश्मन बताते हुए कहा था कि मोदी मुस्लिमों के खिलाफ जंग की तैयारी कर रहे हैं।
– ‘फ्यूचर इस्लामिक स्टेट बैटल्स’ नाम की किताब में आईएस ने इराक-सीरिया के अलावा दूसरे देशों में भी आतंक फैलाने का एलान किया था।
– मैसेज में कहा गया है- हम अब भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान समेत कई देशों में दखल देंगे।
मोदी को लेकर क्या कहा?
– आईएसआईएस के मैसेज में कहा गया- भारत के मुखिया नरेंद्र मोदी खुद हिंदूवादी हैं।
– वे हथियार की पूजा करते हैं और भविष्य में मुस्लिमों के खिलाफ अपने लोगों को जंग के लिए तैयार कर रहे हैं।
ISIS से भारत को कितना खतरा है?
1. नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल ने नवंबर 2014 में आगाह कर दिया था कि पीओके के मामले में सरकार को स्ट्रैटजिक अप्रोच अपनानी चाहिए। वहां आतंकियों के बढ़ रहे मूवमेंट के मद्देनजर उसके नतीजों के लिए तैयार रहना चाहिए। डोभाल ने एक लीडरशिप समिट में कहा था, “देश के किसी भी धार्मिक मुस्लिम नेता ने आईएसआईएस का सपोर्ट नहीं किया है। सभी ने आईएस और अल कायदा के खिलाफ फतवे जारी किए हैं। हालांकि, आईएसआईएस और अल कायदा देश में आतंकी हमले कर हिंसा फैला सकते हैं, लेकिन हमारा देश इतना मजबूत कि वह ऐसे संगठनों से निपट लेगा।”
2. मुंबई के कल्याण से भागकर आईएसआईएस में शामिल होने गए अरीब मजीद के खिलाफ नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने चार्जशीट दायर की थी। इसमें एनआईए ने कहा था कि हो सकता है कि आईएस आने वाले समय में भारत विरोधी आतंकी समूहों से रिश्ते बढ़ा ले। आईएस यह साजिश रच रहा है कि कैसे भारतीय लड़कों को संगठन से जोड़कर इराक-सीरिया के साथ भारत और अन्य एशियाई देशों में आतंकी हमलों को अंजाम दिया जाए।
3. जम्मू-कश्मीर में इस साल कई मौकों पर आईएसआईएस के झंडे देखे गए हैं। बताया जाता है कि आईएस के झंडे रखने वाले 11 लड़कों पर नजर रखी जा रही है। ये लड़के ही लगभग हर जुमे पर श्रीनगर की जामिया मस्जिद के आसपास आईएस के झंडे दिखाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *