NKorea के तानाशाह का मिलिट्री साइट का दौरा, SKorea पर हमले की आशंका

सिओल. नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन ने मिलिट्री साइट का दौरा किया है। ये वही जगह है, जहां से नॉर्थ कोरिया मिसाइल हमले करता है। उन के साइट पर दौरे से साउथ कोरिया पर हमले की आशंका बढ़ गई है। बीते एक महीने से कोरियाई पेनिनसुला में तनाव चल रहा है। अमेरिका वहां अपना जंगी जहाज बेड़ा भेज चुका है। वहीं, नॉर्थ कोरिया जवाबी कार्रवाई में कई बार एटमी हमले करने की धमकी दे चुका है।
2010 में हमला कर चुका है नॉर्थ कोरिया…
– नवंबर, 2010 में नॉर्थ कोरिया साउथ कोरिया की तरफ 170 आर्टिलरी शेल्स दाग चुका है। इसमें 4 लोग मारे गए थे। 1950-53 में हुए कोरियाई वॉर के बाद ये नॉर्थ कोरिया का पहला हमला था।
– नॉर्थ कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए के मुताबिक, उन ने मिलिट्री हमले को अंजाम देने वाली साइट जांजी और मू आइलेट्स का दौरा किया और दुश्मन के मूवमेंट्स को लेकर कुछ निर्देश दिए। उन्होंने दुश्मन के ठिकानों पर हमला करने के प्लान के बारे में भी जानकारी हासिल की।
– हालांकि, केसीएनए ने इस बात का खुलासा नहीं किया कि उन ने साइट का दौरा कब किया।
– योनपायोंग के मू आइलेट्स को नॉर्थ कोरियाई बम हमले के लिए जाना जाता है। केसीएनए का कहना है, “हमारी आर्मी को हाई अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है। दुश्मन ने जरा भी हरकत की तो हम उसकी कमर तोड़ देंगे।”
क्यों बढ़ रहा तनाव?
– अमेरिका और कोरियाई पेनिनसुला में तनाव की वजह नॉर्थ कोरिया का न्यूक्लियर प्रोग्राम है। तानाशह किम जोंग उन सिविल कानून नहीं मानता।
– उन बीते एक हफ्ते में 4 बार अमेरिका पर एटमी अटैक की धमकी दे चुका है।
– 2017 में ही उसने तीन मिसाइलों के कामयाब टेस्ट किए। 2006 से अब तक वह 5 न्यूक्लियर टेस्ट कर चुका है। पिछले साल उसने हाइड्रोजन बम समेत 2 एटमी टेस्ट किए थे।
– मार्च, 2017 में उसकी मिसाइलें जापान के समुद्री क्षेत्र में गिरी थी। इससे भी तनाव बढ़ा।
– ताजा घटनाएं बताती हैं कि अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है।
– वहीं, डोनाल्ड ट्रम्प ने नॉर्थ की तरफ सबसे बड़ी न्यूक्लियर सबमरीन, जंगी जहाज बेड़ा कार्ल विन्सन और एंटी-बैलिस्टिक मिसाइल सिस्टम थाड को तैनात कर दिया है। अमेरिका ने उ. कोरिया की यह सबसे बड़ी सैन्य घेराबंदी की है।
– इस बीच, नॉर्थ कोरिया ने 25 अप्रैल को 85वें आर्मी डे पर अब तक का सबसे बड़ी मिलिट्री एक्सरसाइज कर अपने इरादे जता दिए।
– अगले दिन पलटवार करते हुए नॉर्थ कोरिया के बॉर्डर पर साउथ कोरिया, अमेरिका और जापान की सेना ने दशक की सबसे बड़ी ज्वाइंट मिलिट्री एक्सरसाइज की।
– नॉर्थ कोरिया कई बार एटमी हमले की धमकी दे चुका है। 1 मई को उसने फिर कहा कि वह किसी भी वक्त और कहीं भी न्यूक्लियर टेस्ट कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *