PCB की धमकी के बाद 79% लोगों ने कहा, ‘ना हो भारत-पाक क्रिकेट सीरीज’

खेल डेस्क. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) हर हाल में दिसंबर में भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज करवाना चाहता है। इसके लिए वह अब बीसीसीआई को धमकी भी देने लगा है। पीसीबी चीफ शहरयार खान ने धमकी भरे लहजे में बीसीसीआई को चेतावनी दी है कि अगर वह इस सीरीज के लिए राजी नहीं होता है तो पाकिस्तान आईसीसी और एसीसी (एशियन क्रिकेट काउंसिल) इवेंट्स में भारत का विरोध करेगा और उसके खिलाफ मैच नहीं खेलेगा।
79 फीसदी रीडर्स नहीं चाहते भारत-पाकिस्तान सीरीज
इस मुद्दे पर dainikbhaskar.com ने अपने रीडर्स की राय जाननी चाही और उनसे पूछा कि क्या इन दोनों देशों के बीच क्रिकेट सीरीज होनी चाहिए या नहीं? 79 फीसदी रीडर्स इस सीरीज के खिलाफ हैं, जबकि सिर्फ 21 फीसदी रीडर्स ही चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच सीरीज होनी चाहिए। हमारे फेसबुक पेज पर रीडर्स ने इस डिबेट में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और सीरीज नहीं कराने के पीछे कई लॉजिकल कारण बताए। वहीं, कुछ ने सीरीज कराने को लेकर भी अपने विचार शेयर किए।
मियांदाद को याद आई सेल्फ रिस्पेक्ट
पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद पीसीबी को सेल्फ रिस्पेक्ट की सलाह दे रहे हैं। उन्होंने इस सीरीज के होने पर जोर तो दिया, लेकिन पीसीबी को सलाह दी कि सेल्फ रिस्पेक्ट का भी ख्याल रखें। बहुत ज्यादा रिक्वेस्ट नहीं करें। वहीं, पाकिस्तान के टी20 कप्तान शाहिद आफरीदी का कहना है, “मैं यह समझ नहीं पा रहा हूं कि हम बार-बार भारत के खिलाफ सीरीज खेलने पर इतना जोर क्यों दे रहे हैं। अगर वे नहीं खेलना चाहते तो मुझे ऐसा कोई कारण ही दिखाई नहीं दे रहा है कि हम उनके खिलाफ खेलें। हमे ऐसे ही खुश हैं।”
सीरीज से काफी पैसा आएगा : शोएब अख्तर
पूर्व पाकिस्तानी फास्ट बॉलर शोएब अख्तर का मानना है कि दोनों देशों के बीच सीरीज होने से बोर्ड के पास काफी पैसा आएगा। उन्होंने कहा है, “भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज होनी चाहिए। इससे दोनों देशों के बोर्ड के पास काफी पैसा आएगा।” पाकिस्तान के टेस्ट कप्तान मिस्बाह उल हक का कहना है, “क्रिकेट को पॉलिटिक्स से दूर रहना चाहिए और दोनों देशों को एक-दूसरे से मैच खेलना चाहिए। मैं हमेशा इसी बात का सपोर्ट करता हूं।”
आतंकवाद बंद नहीं तो क्रिकेट नहीं : अनुराग ठाकुर
बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर ने पीसीबी की मांग को फिलहाल ठुकरा दिया है। उनका कहना है कि आतंकवाद और क्रिकेट साथ-साथ नहीं चल सकता। उनका कहना है, “पाकिस्तान जब तक आतंकवाद बंद नहीं करता, हम उनके साथ क्रिकेट नहीं खेल सकते और भारत सरकार भी हमें इसकी इजाजत नहीं देगी। अगर पाकिस्तान हमसे क्रिकेट खेलना चाहता है तो पहले उसे आतंकवाद बंद करना पड़ेगा।”
अधिकतर रीडर्स की है यही राय
हमारे अधिकतर रीडर्स की भी यही राय है। उनका भी यही मानना है कि पाकिस्तान क्रिकेट के बहाने आतंकवाद को बढ़ावा देना चाहता है। वहीं, कुछ का यह भी मानना है कि उनके पास पैसों की बहुत कमी हो गई है, वे सिर्फ इसीलिए वे भारत के साथ सीरीज चाहते हैं, ताकि उनका बैंक बैलेंस फिर से भर जाए। 7
आंकड़ों में भारत-पाकिस्तान मैच
* दोनों ही टीमों के बीच 132 मैच खेले गए। इसमें 72 में पाकिस्तान तो 51 में टीम इंडिया को जीत मिली। जबकि 4 मैचों का कोई नतीजा नहीं निकला और 5 मैच रद्द हुए।
* भारत-पाकिस्तान के बीच भारत में कुल 32 मैच हुए। इसमें 11 में भारत और 19 में पाकिस्तान को जीत मिली। 2 मैचों का कोई रिजल्ट नहीं निकला।
* वहीं, पाकिस्तान में इन दोनों देशों के बीच 27 मैच हुए। इसमें 11 में भारतीय टीम जबकि पाकिस्तान को 14 मैचों में जीत मिली। दो मैच नो रिजल्ट रहे।
वर्ल्ड कप में टीम इंडिया का रिकॉर्डः
वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान के बीच कुल 6 मैच हुए। इनमें सभी में भारत की जीत का रिकॉर्ड बरकरार है। 1992 वर्ल्ड कप में 43 रन, 1996 वर्ल्ड कप में 39 रन, 1999 वर्ल्ड कप में 47 रन, 2003 वर्ल्ड कप में 6 विकेट, 2011 वर्ल्ड कप में 29 रन और 2015 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम ने 76 रन से जीत दर्ज की।