US कांग्रेस ने रोकी थी PAK को 4500 करोड़ की मदद, मोदी बोले- अच्छा मैसेज दिया

वॉशिंगटन. नरेंद्र मोदी ने बुधवार को यूएस कांग्रेस के ज्वाइंट सेशन में दी अपनी स्पीच में पाकिस्तान का नाम लिए बिना उस पर निशाना साधा। मोदी ने पाकिस्तान से एफ-16 फाइटर प्लेन की डील में ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन की तरफ से 4500 करोड़ रुपए की सब्सिडी नहीं दिए जाने के फैसले का रेफरेंस दिया। मोदी ने कहा- ”मैं यूएस कांग्रेस के मेंबर्स का शुक्रगुजार हूं कि आपने उन ताकतों को एक ही बार में नकारते हुए अच्छा मैसेज दिया जो अपने राजनीतिक फायदों के लिए टेररिज्म को एकतरफ तो बढ़ावा देते हैं, दूसरी तरफ उसके खिलाफ उपदेश देते हैं।”
अमेरिका ने क्यों कैंसल की थी पाकिस्तान की डील…
– बता दें कि यूएस कांग्रेस के सख्त एतराज के बाद ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन ने पाकिस्तान को एफ-16 फाइटर प्लेन के लिए मदद देने से इनकार कर दिया था।
– यूएस कांग्रेस के ज्वाइंट सेशन को एड्रेस करने वाले 6th इंडियन पीएम बने मोदी ने कहा, ”आतंकवाद अब भी सबसे बड़ा खतरा कायम है। भारत की पश्चिम की सीमा (पाकिस्तान) से लेकर अफ्रीका तक आतंकवाद अलग-अलग नामों से मौजूद है। भारत के पड़ोस में आतंकवाद को पाला-पोसा जा रहा है।”
– ”कहीं वह (पाक से ऑपरेट होने वाला) लश्कर-ए-तैयबा है तो कहीं तालिबान और आईएसआईएस है। उनकी सोच नफरत, हत्याओं और हिंसा की है। इसकी परछाई दुनियाभर में बढ़ रही है।”
– ”मैं यूएस कांग्रेस का आभारी हूं कि आपने ऐसी ताकतों को बढ़ने नहीं दिया, जो अपने राजनीतिक फायदों के लिए टेररिज्म को एकतरफ बढ़ावा देते हैं और दूसरी तरफ उसके खिलाफ उपदेश देते हैं, मैं आभारी हूं कि आपने एक ही बार में ऐसी ताकतों को सिरे से नकार दिया और सख्त मैसेज दिया।”
– ”उन्हें रिवॉर्ड देने से इनकार करना उन्हें जवाबदेह बनाने की दिशा में उठाया गया पहला कदम है।”
– ”जरूरत इस बात की है कि हम इस सिक्युरिटी कोऑपरेशन बढ़ाएं और उन लोगों को अलग-थलग कर दें जो आतंक को पनाह देते हैं और उसे बढ़ने का मौका देते हैं।”
– ”गुड और बैड टेररिज्म कुछ नहीं होता। जो हिंसा को मजहब से जोड़े, वह आतंकवाद होता है। हमें एक आवाज में इसके खिलाफ खड़े होना है। टेररिज्म से पुरजोर तरीके से निपटना होगा।”
क्या थी डील?
– अमेरिका-पाकिस्तान के बीच F-16 फाइटर जेट्स की डील पिछले दिनों कैंसल हो गई। फंड की दिक्कतों के चलते पाकिस्तान अमेरिका को लेटर ऑफ एक्सेप्टेंस नहीं दे पाया। इसके लिए डेडलाइन 24 मई थी।
– इससे पहले, कई हफ्तों से दोनों देशों के बीच इन फाइटर जेट्स को लेकर विवाद था। अमेरिका ने डील पर हामी तो भरी थी, लेकिन सांसदों के विरोध के चलते पाक को सब्सिडी देने से इनकार कर दिया था। इस वजह से पाकिस्तान को अपनी तरफ से 4500 करोड़ रुपए देने थे।
– इससे पहले यूएस कांग्रेस में यह बात उठी थी कि पाकिस्तान को एफ-16 फाइटर प्लेन न बेचें जाएं, क्योंकि वह इसका इस्तेमाल भारत के खिलाफ करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *