Yes Bank में जमा लोगों के पैसे पूरी तरह से सुरक्षित, किसी को कोई नुकसान नहीं होगा- वित्त मंत्री

यस बैंक संकट (Yes Bank Crisis) पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा, कि सभी ग्राहकों का पैसा पूरी तरह से सुरक्षित है. किसी को भी कोई नुकसान नहीं होगा. मैं लगातार, RBI गवर्नर के साथ बातचीत कर रही हूं. बैंक ग्राहकों को बिल्कुल घबराना नहीं चाहिए. इससे पहले RBI गवर्नर शक्तिकांत दास (RBI Governor Shaktikanta Das) ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा कि हमने 30 दिनों के लिए यह लिमिट लगाई है. जल्द ही आरबीआई यस बैंक को संकट से निकालने के लिए तेजी से कार्रवाई करेगा. आरबीआई गवर्नर ने कहा, आपको बैंक को समय देना होगा, प्रबंधन द्वारा उठाए जाने वाले जरूरी कदम को उठाने की कोशिश करनी होगी और उन्होंने कोशिश की. जब हमने पाया कि यह कोशिश काम नहीं कर रहा तो आरबीआई ने हस्तक्षेप किया.

विशेष परिस्थितियों में ज्यादा रकम निकालने का ऑप्शन- वित्त मंत्री (Finance Minister) ने कहा कि अगर किसी को एमरजेंसी है तो वो नियमों के तहत ज्यादा रकम भी निकाल सकते है. नोटिफिकेशन में दी गई जानकारी के मुताबिक, कुछ विशेष परिस्थितियों में अकाउंटहोल्डर्स अपने खाते से 50,000 रुपये से अधिक रकम विड्रॉ कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि किन परिस्थितियों में 50 हजार रुपये से अधिक की निकासी की जा सकती है.

अगर जमाकर्ता या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी व्यक्ति के लिए मेडिकल खर्च करना हो. जमाकर्ता या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी व्यक्ति के भारत या भारत के बाहर एजुकेशन पर खर्च करना हो.जमाकर्ता या उसके बच्चे या वास्तविक रूप से उस पर ​आश्रित किसी अन्य व्यक्ति की शादी या अन्य समारोह के उपलक्ष्य में 50 हजार रुपये से अधिक की निकासी की जा सकती है.

यस बैंक के एटीएम के बार लंबी लाइनें लगी है? इस सवाल के जवाब में वित्त मंत्री ने कहा कि इस पर RBI गवर्नर से बातचीत करूंगी और जल्दी से जल्दी कैश की दिक्कतों को दूर करने की कोशिश की जाएगी.

Phone Pe ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! Yes Bank संकट की वजह से नहीं कर पाएंगे इस ऐप को यूज

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने निजी क्षेत्र के Yes Bank की कई सेवाओं पर 5 मार्च को रोक लगा दी है. इसका सामना फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनी PhonePe को भी करना पड़ रहा है. यस बैंक पर लगी रोक के बाद डिजिटल भुगतान सेवाओं का प्रमुख प्लेटफार्म यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) आधारित लेन-देन रुक गया है, और इससे बैंक के सबसे बड़े भुगतान भागीदार PhonePe सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है. यस बैंक ने अपनी खस्ता हालत की वजह से दिसंबर, 2019 तिमाही नतीजे घोषित नहीं किए हैं. एनपीए की वजह से बैंक की सुरक्षित पूंजी कम हो गई है.

PhonePe के सीईओ समीर निगम ने ट्विटर पर ग्राहकों को बताया कि हमें इस लंबे रुकावट के लिए खेद है. हमारे साझेदार बैंक (Yes Bank) पर RBI द्वारा कई प्रतिबंध लगा दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि हमारी पूरी टीम ने रात भर सेवायें जारी रखने के लिए काम किया है. हमें उम्मीद है कि यह कुछ घंटों में ठीक हो जाएगा. एक फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनी ने बताया कि कुछ भी हो, यह एक लेन-देन या समझौता है, जिसके कारण बैंक को काम करना बंद करना पड़ा.

50,000 रुपये की निकासी की सीमा तय हुई 30 दिन के लिए
बता दें कि केन्द्रीय बैंक ने यस बैंक के जमाकर्ताओं के लिए 50,000 रुपये की निकासी की सीमा तय की है. यस बैंक पर 30 दिन की अस्थायी रोक लगाते हुए इस दौरान खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा 50 हजार रुपये तय कर दी है. इस पूरी अवधि में खाताधारक 50 हजार रुपये से अधिक नहीं निकाल सकेंगे. यदि किसी खाताधारक के इस बैंक में एक से अधिक खाते हैं तब भी वह कुल मिलाकर 50 हजार रुपये ही निकाल सकेगा. RBI की अधिसूचना के मुताबिक, यह 5 मार्च की शाम छह बजे से 03 अप्रैल तक जारी रहेगी.

>> जमाकर्ता या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी व्यक्ति की शिक्षा के लिए भारत में या भारत से बाहर लागत को चुकाने के संबंध में.

>> जमाकर्ता या उसके बच्चों या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी अन्य व्यक्ति के विवाह या अन्य समारोह के संबंध में बाध्यकर खर्चों के लिए.

>>किसी अन्य अपरिहार्य इमरजेंसी के संबंध में.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *