2022 की शुरूआत, किशोर  को वैक्सीन सुरक्षाचक्र के साथ 
भोपाल। बचपन में बुरी नजरों से बचाने के लिये आपके द्वारा अपने बच्चों के चेहरे पर लगाये गये काले टीके के पन्द्रह बरस बाद अब कोविड के वायरस की काली नजरों से बचाने को वैेक्सीन का टीका लगवाने आपकी बारी आ गई है। किशोरों वैक्सीन जागरूकता कार्यक्रम में विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने यह बात कही।
नेशनल अवार्ड प्राप्त सारिका ने कहा कि जिस प्रकार आपने अपने बच्चे को डीटीपी, पोलियो , खसरा आदि से बचाव के लिये टीके बिना किसी संकोच के लगवा कर इन बीमारियों से बच्चे का बचाव किया उस ही कड़ी में अब कोवेक्सीन की बारी है। 28 दिन के अंतर पर लगने वाली दो डोज में से पहली के लिये पंजीयन आरंभ हो चुका है तथा 15 से 18 साल के बच्चों के लिये 3 जनवरी से स्कूलों में इसके लगने की शुरूआत हो रही है।
टीके के प्रति संकोच या डर का जबाब देते हुये सारिका ने जागरूकता कार्यक्रम में कहा कि जिस प्रकार व्यस्क आबादी 2021 में  स्वयं वैक्सीन लगवा कर कोविड के घातक प्रभाव से बचाव कर पा रही हैं उस ही प्रकार 2022 में किशोरों को सुरक्षाचक्र देने की बारी आ चुकी है। इसके लिये बच्चों के पालक कोविन पोर्टल पर पंजीयन करायें और बच्चे को ना’ता या भोजन करवा कर स्कूल भेजें।
सारिका ने कार्यक्रम में पपेट की मदद से संदेश  दिया कि देर मत कीजिये। ओमिक्राॅन का फैलाव जारी है।
खास बातें-
1 बच्चे को ना’ता या भोजन करवा कर आधार कार्ड के साथ स्कूल भेजें
2 बच्चे को माता-पिता में से किसी एक के नम्बर की जानकारी देनी होगी।
3 टीका लगवाने के लिये अलग से सहमति पत्र की जरूरत नहीं है।
4 टीके के लिये पंजीयन पालकों या बच्चे को ही कराना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here