लखनऊ। अभी आईटी के छापे की खबर सभी के दिमाग से निकली ही नही थी कि उत्तरप्रदेश के कानपुर में एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार गए और इत्र कारोबारी के घर पर आईटी विभाग के छापे की खर ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया है। बता दे कि आयकर विभाग ने कर चोरी की जांच के तहत शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में इत्र व्यापारियों और कुछ अन्य से जुड़े कई परिसरों पर छापेमारी की। सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार कानपुर, कन्नौज, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और कुछ अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है। सूत्रों ने बताया कि विभाग इत्र कारोबार और संबंधित व्यवसाय से जुड़ी कुछ कंपनियों के कई ठिकानों की तलाशी ले रहा है।
बताया जा रहा है की  समाजवादी पार्टी (सपा) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक पोस्ट में दावा किया कि कन्नौज में उसके विधान पार्षद (एमएलसी) पुष्पराज उर्फ पम्पी जैन के परिसरों पर छापेमारी की गई है। 50 जगहों पर इनकम टैक्स की छापेमारी चल रही है। इसमें 7 ठिकाने पुष्पराज के हैं। लखनऊ, कन्नौज, कानपुर, नोएडा और हाथरस के ठिकानों पर सर्चिंग जारी है। लखनऊ में भी इत्र कारोबारी के यहां छापा पड़ा है। कन्नौज के बाद इत्र कारोबारी मोहम्मद याकूब मलिक के भाई मोहसिन के घर IT पहुंची है। हजरतगंज स्थित मोहसिन की कोठी पर सर्चिंग चल रही है। वहीं, इत्र और गुटखा कारोबार से जुड़े अन्य व्यापारियों के यहां छापा पड़ा है। सपा ने कहा कि पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने कन्नौज में एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया था, इसलिए ‘‘भाजपा सरकार’’ ने छापेमारी करवाई है।
बता दें कि यह वहीं इत्र कारोबारी है जिनके संबंध समाजवादी पार्टी के साथ बताएं जाते है। उल्लेखनीय है कि पुष्पराज जैन भी प्यूष जैन की तरह इत्र का कारोबार करते है। लेकिन विगत दिनों प्यूष जैन के ठिकानों पर पड़े आईटी के छापों के बाद यह चर्चा जोरो पर थी कि जिस प्यूष जैन को आईटी विभाग ने घेरा है दरअसल में उसके स्थान पर पुष्पराज जैन के यहां पर छापा पडऩा था। जो कि कानपुर में प्यूष जैन के घर से महज 100 मीटर के अंतर से रहते है। यही वजह थी कि प्यूष जैने के यहां पड़े छापे के बाद राजनैतिक हवाओं में समाजवादी इत्र की खुशबू हवाओं में तैरने लगी थी।
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के तहत काम करने वाली जांच एजेंसी- माल एवं सेवा कर खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) ने हाल में कानपुर और कन्नौज में बड़े पैमाने पर छापेमारी की थी। इस दौरान इत्र व्यापारी पीयूष जैन को गिरफ्तार किया गया और 197 करोड़ रुपये से अधिक नकद धन राशि के अलावा 26 किलोग्राम सोना और भारी मात्रा में चंदन का तेल जब्त किया गया। आयकर विभाग केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के तहत कार्य करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here