नईदिल्ली।  इस्‍पात मंत्रालय के तहत देश के सबसे बड़े लौह अयस्क उत्पादक, राष्ट्रीय खनिज विकास निगम लिमिटेड (एनएमडीसी) ने वित्त वर्ष 2022 की दूसरी तिमाही में टर्नओवर और कर पूर्व लाभ (पीबीटी) में क्रमशः 205 प्रतिशत और 196 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज करके अच्‍छी वित्तीय उपलब्धियां हासिल की। दूसरी तिमाही के दौरान, एनएमडीसी सीपीएलवाई की तुलना में उत्पादन और बिक्री दोनों में ही बेहतर प्रदर्शन करने में सक्षम रहा है। इस तिमाही में एनएमडीसी ने 8.77 मिलियन टन (एमटी) लौह अयस्‍क का उत्पादन किया और 8.99 मिलियन टन (एमटी) लौह अयस्क की बिक्री की।

वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही में एनएमडीसी का टर्नओबर (कारोबार) 2230 करोड़ रुपये सीपीएलवाई की तुलना में 6794 करोड़ रुपये रहा। वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही में एनएमडीसी का कर पूर्व लाभ (पीबीटी) 3142 करोड़ रुपये रहा जबकि 2020-21 की दूसरी तिमाही के दौरान यह 1063 करोड़ रुपये रहा था। इस प्रकार इसने 196 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज की। वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही के लिए कर पश्चात लाभ (पीएटी) 202 प्रतिशत  बढ़कर 2341 करोड़ रुपये रहा, जबकि वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही के दौरान यह केवल 774 करोड़ रुपये रहा था।

एनएमडीसी ने वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही के दौरान 17.68 एमटी लौह अयस्‍क का उत्पादन किया और 18.43 एमटी की बिक्री की, जो सीपीएलवाई की तुलना में क्रमश: 44 प्रतिशत और 43 प्रतिशत अधिक हैं। वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही के दौरान एनएमडीसी का टर्नओवर 13,306 करोड़ रुपये रहा और इस दौरान कर पूर्व लाभ 7,405 करोड़ रुपये रहा, जो सीपीएलवाई की तुलना में क्रमशः 219 प्रतिशत और 306 प्रतिशत अधिक है। इस कंपनी का पहली छमाही के दौरान अब तक का यह सबसे अच्छा परिणाम है।

एनएमडीसी के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री सुमित देब ने कहा कि उभरते हुए बाजारों में लोहे और इस्‍पात की मांग में तेजी आई है। खनन उद्योग में एक प्रमुख दिग्‍गज के रूप में, हमने सक्रिय उत्पादन बढ़ोतरी पहल के साथ कार्य किया और एक असाधारण तिमाही की उपलब्धि के साथ मांग को देखते हुए हम अपनी चुस्त प्रतिक्रिया का लाभ उठा रहे हैं। हमारा लक्ष्य क्षमता विस्तार पहल और डिजिटल बुनियादी ढांचे के अमल पर ध्यान केन्द्रित करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here