कांग्रेसियों की कलह

ग्वालियर. शहर जिला कांग्रेस की कलह थमने का नाम नहीं ले रही है। कलह का ताजा मामला प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य मुन्नालाल गोयल और शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष दर्शन सिंह के बीच चल रही खींचतान है। इसी की खबरें दिल्ली तक जा पहुंची। इस पर शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दोनों पक्षों को दिल्ली तलब कर आपसी तालमेल के साथ काम करने की नसीहत दी।
ताजा मामला गुरुवार को हुई जिला कांग्रेस की प्रबंध कार्यकारिणी की बैठक से जुड़ा है। बताया जाता है कि इस बैठक में जिला कांग्रेस के अध्यक्ष और उनके समर्थक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशों का हवाला देकर श्री गोयल और उनके कुछ समर्थकों के खिलाफ अनुशासनहीनता की कार्रवाई करने की तैयारी में थे।
पार्टी के ही कुछ पदाधिकारियों की सहमति न बनने से मामला बिगड़ गया। बैठक तो हुई पर इस मसले पर न तो कोई कार्रवाई हुई और न ही चर्चा। उधर, पूरे मसले की खबर जब श्री गोयल के समर्थकों को लगी तो वे भी अपने ढंग से सक्रिय हो गए। उन्होंने सीधे श्री सिंधिया से संपर्क साधा और फैक्स के माध्यम से वस्तुस्थिति से अवगत कराया।
दोनों पक्षों को सिंधिया ने किया तलब
जिला कांग्रेस में इस खींचतान की खबर जब श्री सिंधिया तक पहुंची तो उन्होंने दोनों पक्षों को दिल्ली तलब कर लिया। श्री गोयल तो दिल्ली नहीं गए पर उनकी ओर से जिला कांग्रेस के महामंत्री अजरुन जाटव और संगठन मंत्री दिनेश शर्मा कुछ साथियों के साथ पहुंचे। दरअसल, ये दोनों लगातार श्री गोयल के जनसंपर्क अभियान में शामिल हो रहे हैं, लिहाजा जिला कांग्रेस की ओर से इनके खिलाफ भी शिकायत की जा रही है।
बताते हैं कि इन लोगों ने वहीं बातें दोहराईं जो शुक्रवार को श्री सिंधिया को फैक्स में भेज चुके थे। सुबह 11 बजे करीब इन लोगों की मुलाकात हुई। श्री सिंधिया ने सारी बात सुनी और कहा कि मिलकर काम करो, बाकी मैं बात करूंगा। श्री गोयल के साथियों के बाद शाम 4 बजे जिला कांग्रेस के अध्यक्ष दर्शन सिंह, संगठन प्रभारी अशोक जैन, लतीफ खां मल्लू और प्रवक्ता वीरेंद्र यादव भी श्री सिंधिया से मिले और अपनी स्थिति स्पष्ट की।
बताते हैं कि इन लोगों को भी सबके साथ मिलकर चलने और काम करने की नसीहत मिली है। खास बात यह है कि जिला कांग्रेस में इस घटनाक्रम की खबर सबको है पर पार्टी नेता दिल्ली दौरा और श्री सिंधिया से हुई मुलाकात को महज सौजन्य भेंट बता रहे हैं।