भोपाल। उत्तरप्रदेश के कुशीनगर में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा का उद्घाटन कर देश को समर्पित किया। इस दौरान उन्होने कहा कि यह हवाई अड््डा दुनिया भर के बौद्ध अनुयाइयों की श्रद्धा को पुष्पांजलि अर्पित की है। बतादें कि यह हवाई अड्डा कुल 589 एकड़ में 260 करोड़ की लागत से बना है। इस हवाई अड्डे के लोकार्पण के साथ उत्तर प्रदेश सर्वाधिक हवाई अड्डा वाला प्रदेश बन गया है।
इसके साथ ही पीएम मोदी ने इस दौरान 180.6 करोड़ रुपये की लागत से 12 परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया साथ ही 281 करोड़ से बनने वाले मेडिकल कालेज की आधारशिला रखेगें। वह महापरिनिर्वाण मंदिर में बुद्ध प्रतिमा पर चीवर चढ़ाएंगे और भिक्षुओं को चीवर दान करेंगे। बरवा फार्म में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जनसभा को भी संबोधित करेंगे। वह अपने 30 मिनट के संबोधन में कुशीनगर व बौद्ध परिपथ में पर्यटन और विकास की संभावनाओं पर बात करेंगे। श्रीलंका से प्रतिनिधिमंडल को लेकर आ रहा बोइंग विमान इस अवसर का साक्षी बना और बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली से बौद्ध देशों के लिए सीधी उड़ान सेवा की सुविधा होने का संदेश दिया।
पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि भारत बौद्ध समाज की आस्था-श्रद्धा का केंद्र है। आज कुशीनगर दुनिया से जुड़ गया है। कुशीनगर हवाई अड्डा सिर्फ एयर कनेक्टिविटी के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं है। इससे किसान, पशुपालक, दुकानदार, मजदूर, स्थानीय उद्योगपति, सभी लाभान्वित होंगे। पर्यटन में असीमित वृद्धि होगी। इससे स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेगा। आने वाले तीन से चार वर्षों में देश में 200 से अधिक एयरपोर्ट, सीपौड का नेटवर्क खड़ा करने की कोशिश है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुशीनगर हवाई अड्डा दशकों की उम्मीदों का फल है। आज मुझे दोगुनी खुशी हो रही है। तीर्थाटन के साथ-साथ पूर्वांचल के जनप्रतिनिधि के रूप में एक सकंल्प को भी पूरा करने का अवसर मिला है। यह एयरपोर्ट अर्थव्यस्था में बदलाव लाएगा। उन्होंने कहा कि देश का एविएशन सेक्टर प्रोफेशनली चले, सुविधा और सुरक्षा को प्राथमिकता मिले, इसके लिए हाल में एयर इंडिया से जुड़ा बड़ा कदम देश ने उठाया है। ऐसा ही एक बड़ा रिफॉर्म डिफेंस एयरस्पेस को सिविल यूज के लिए खोलने से जुड़ा है।

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भगवान बुद्ध से जुड़े स्थानों को विकसित करने के लिए, बेहतर कनेक्टिविटी के लिए, श्रद्धालुओं की सुविधाओं के निर्माण पर भारत द्वारा आज विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कुशीनगर का विकास, यूपी सरकार और केंद्र सरकार की प्राथमिकताओं में है। उड़ान योजना के तहत बीते कुछ वर्षों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है, इनमें से 350 से अधिक पर हवाई सेवा शुरू भी हो चुकी है। 50 से अधिक नए एयरपोर्ट या जो पहले सेवा में नहीं थे, उनको चालू किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here