नईदिल्ली। रूस और यूके्रेन युद्ध के बीच चल रही जंग को लेकर मोदी सरकार की एक हाईलेवल बैठक हुई है। बैठक में यूक्रेन संकट के मद्देनजर अहम चर्चा की गई। बैठक में निर्णय लिया गया है कि यूके्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए अभियान और तेज किया जाएगा। साथ इस गंगा मिशन को पूरा करने के लिए यूके्रन के पडौसी देशों की यात्रा भारत सरकार के चार मंत्री यात्रा करेंगे।
यूक्रेन के पड़ोसी देश जाएंगे मंत्री

यूक्रेन और रूस के बीच भीषण जंग के बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाई लेवल बैठक में निर्णय लिया है कि भारतीय नागरिकों की देश वतन वापसी के लिए 4 केंद्रीय मंत्री यूक्रेन के पड़ोसी देश जाएंगे। फैसला लिया गया है कि केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, हरदीप सिंह पुरी, जनरल वीके सिंह और किरेन रिजिजू यूक्रेन के पड़ोसी देश जाएंगे।

भारत मतदान में नहीं हुआ था शामिल

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में यूक्रेन पर रूस के हमले के मामले पर हुई वोटिंग पर भारत ने भाग नहीं लिया था। हालांकि भारत ने बेलारूस सीमा पर मॉस्को और कीव के वार्ता करने के निर्णय का स्वागत किया है। गौरतलब है कि इससे दो दिन पहले यूक्रेन के खिलाफ रूसी हमले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक प्रस्ताव को रूस ने वीटो के जरिए बाधित कर दिया था। इस प्रस्ताव के लिए हुए मतदान में भी भारत, चीन और संयुक्त अरब अमीरात शामिल नहीं हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here