भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक मंत्रालय में वंदे-मातरम के गान के साथ आरंभ हुई। मंत्रि-परिषद की बैठक के पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल में जहाँ नवजात शिशुओं का उपचार होता है, वहाँ कल रात शार्ट सर्किट के कारण आग लगी, जिसमें हमारे कुछ नौनिहाल चले गए। इस हृदय विदारक घटना से मन और आत्मा व्यथित है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो बच्चे अस्पताल में थे वह हमारे संरक्षण में थे, उनकी जान बचाना हमारी जिम्मेदारी थी, यह गंभीर घटना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना आपराधिक लापरवाही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य तथा चिकित्सा शिक्षा घटना की जाँच करेंगे, जो भी दोषी होगा, उस पर सख्त एक्शन लिया जाएगा।

जान की बाजी लगाकर बच्चों को सुरक्षित निकालने वालों का सम्मान किया जाएगा

मुख्यमंत्री  ने की चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सारंग की कर्मठता की प्रशंसा

मुख्यमंत्री ने कहा कि घटना का एक पहलु यह भी है कि जिन लोगों ने अपनी जान हथेली पर रखकर अपनी जान की बाजी लगाकर बच्चों को सुरक्षित निकाला वे सराहना के पात्र हैं। ऐसे डॉक्टर, नर्स, वार्ड बॉय आदि का सम्मान किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने उन सभी को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री  ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री  विश्वास सारंग की कर्त्तव्यनिष्ठा की प्रशंसा करते हुए कहा कि श्री सारंग घटना की सूचना प्राप्त होते ही घटनास्थल पर पहुँचे और तत्काल राहत कार्य में समन्वय किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पुलिस प्रशासन और डॉक्टरों की टीम का भी त्वरित एक्शन लेने और बच्चों की जान बचाने के लिए आभार व्यक्त किया।

जल्द प्रस्तुत की जाए अस्पतालों की फायर सेफ्टी ऑडिट रिपोर्ट

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि सभी शासकीय और गैर शासकीय अस्पतालों का तत्काल फायर सेफ्टी ऑडिट कराया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के परिणाम स्वरूप कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए ऑक्सीजन लाइन बिछाई गई हैं। इससे अस्पतालों में फायर सेफ्टी ऑडिट की और अधिक जरूरत हो जाती है। अत: अस्पतालों की फायर सेफ्टी ऑडिट की रिपोर्ट जल्द से जल्द प्रस्तुत की जाए।

मेरी घटना-स्थल पर तत्काल पहुँचने की इच्छा थी

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरी घटना-स्थल पर तत्काल पहुँचने की इच्छा थी। मैं निरंतर चिकित्सा शिक्षा मंत्री  विश्वास सारंग के संपर्क में रहा। मुझे कहा गया कि आपके वहाँ जाने से राहत कार्य में लगे लोगों का ध्यान बँटने की संभावना रहेगी। अत: टीमों का फोकस बच्चों को सुरक्षित निकालने पर ही रहे, इस आशय से मैं निवास से ही लगातार घटना-स्थल पर मौजूद मंत्री विश्वास सारंग, पुलिस प्रशासन और डॉक्टरों की टीम के संपर्क में रहा।

हमें वह सभी उपाय करने होंगे जिससे ऐसी घटना का दोहराव न हो

मुख्यमंत्री  ने ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति की प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन बच्चों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएँ हैं। घटना में जो घायल हुए हैं उन्हें शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हो यही कामना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें वह सभी उपाय करने होंगे जिससे ऐसी घटना का दोहराव न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here