दिग्विजय का नमो पर निशाना, मोदी को बताया फासीवादी

Tatpar 19 Aug 2013

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के कांग्रेस मुक्त भारत के नारे को फासीवादी करार देते हुए सभी गैर-भाजपाई दलों से धर्मनिरपेक्षता के मंच पर एक साथ आने का आहवान किया।

सिंह ने आज माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा, क्या मोदी और अब भाजपा का कांग्रेस मुक्त भारत का नारा फासीवादी नहीं है, सभी अन्य गैर भाजपा, गैर सांप्रदायिक राजनीतिक दल इसका जवाब देंगे।

सभी गैर भाजपा एवं गैर सांप्रदायिक पार्टियों तक पहुंचने की सिंह की यह कोशिश ऐसे समय में देखने को मिल रही है, जब दोनों ही प्रमुख राष्ट्रीय पार्टियों को यह अहसास है कि अगला लोकसभा चुनाव अंतत: गठबंधन का ही खेल होने वाला है।

कांग्रेस ने जहां कुछ महीने पहले संप्रग गठबंधन में झारखंड मुक्ति मोर्चा जैसे नए साथी को जोड़ा है, वहीं सुब्रहमण्यम स्वामी की जनता पार्टी का कुछ ही दिनों पहले भाजपा में विलय हो गया।

नरेंद्र मोदी ने हाल ही में हैदराबाद में आयोजित एक रैली के दौरान में तेलुगू देशम पार्टी को राजग में शामिल होने का साफ संकेत देते हुए एन टी रामाराव की विरासत को याद किया और सभी गैर कांग्रेसी पार्टियों से एक साथ आने का आहवान किया था।

राजग के पूर्व सहयोगी जद (यू) ने इस वर्ष जून महीने में अपने 17 वर्ष पुराने साथी रहे भाजपा से नाता तोड़ लिया था। कांग्रेस के प्रति बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नरम रवैये से ऐसे भी संकेत मिल रहे हैं कि उनकी पार्टी संप्रग में शामिल हो सकती है।

राजग में अब भाजपा के अलावा दो अन्य पार्टियां शिव सेना और अकाली दल ही बची हैं। ऐसे में अगला लोकसभा चुनाव बीजद, तेदेपा, वाईएसआर कांग्रेस, जदयू, राजद, तृणमूल कांग्रेस, सपा और बसपा जैसी क्षेत्रीय पार्टियों के व्यवहार पर भी निर्भर करेगा। राजद, सपा और बसपा फिलहाल संप्रग सरकार को बाहर से समर्थन दे रही हैं।

कांग्रेस के महासचिव एवं आंध्र प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी दिग्विजय सिंह ने भय, भूख और भ्रष्टाचार मुक्त भारत के अपने पुराने नारे पर बात नहीं करने को लेकर भाजपा पर प्रहार किया। सिंह ने अपने अगले दो ट्वीट में कहा, भाजपा का पुराना था नारा भय, भूख, भ्रष्टाचार मुक्त भारत, मोदी का नारा है कांग्रेस मुक्त भारत। अब मोदी की भाजपा में भय मुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त भारत कोई मुद्दा नहीं रहा। क्या भाजपा के थिंक टैंक या प्रवक्ता इसका जवाब देंगे।

गौरतलब है कि बीते कुछ महीनों से भाजपा लगातार अपने मतदाताओं से कांग्रेस मुक्त भारत का आहवान करती रही है। मोदी ने हैदराबाद में अपने भाषण के दौरान कहा कि कांग्रेस पार्टी इस देश पर बोझ है। आज, मैं जब यहां आया तो मैं एनटीआर को याद करना चाहता हूं। एनटीआर ने जब गैर कांग्रेसी राजनीति पर जोर दिया तो उन्होंने न सिर्फ आंध्र, बल्कि पूरे भारत की ही सेवा की। यह एनटीआर की ही कोशिशें थीं, जिसने केंद्र में गैर कांग्रेसी सरकार का रास्ता बनाया।