भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बैंकर्स स्व-रोजगार योजनाओं का लक्ष्य समय-सीमा में पूरा करें। भारत सरकार की स्व-रोजगार योजनाओं के क्रियान्वयन में जिम्मेदारी से कार्य करें। मुख्यमंत्री  आज मंत्रालय में राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वित्त  मनोज गोविल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं बैंकर्स उपस्थित थे।

रोजगार सबसे बड़ी प्राथमिकता

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना के क्रियान्वयन एवं बेहतर परिणाम लाने के संबंध में निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि रोजगार सबसे बड़ी प्राथमिकता है। विशेष रूप से स्व-रोजगार योजनाओं का प्रथमिकता से क्रियान्वयन करें। आर्थिक गतिविधियाँ तेजी से चलें। स्व-रोजगार के लिए व्यवस्थित ढंग से जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति में ऋण शिविरों का आयोजन सुनिश्चित करें।

स्वामी विवेकानंद जयंती पर राज्य स्तरीय स्व-रोजगार मेला

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर राज्य स्तरीय स्व-रोजगार मेले का आयोजन किया जाए। उन्होंने कहा कि मेले में अधिकाधिक प्रकरणों में ऋण स्वीकृत करें। जिला स्तर पर भी शिविर आयोजित किए जाएँ। उन्होंने कहा कि  विगत 9 नवम्बर से 26 नवम्बर तक 117 क्रेडिट कैंप आयोजित कर 51 करोड़ रूपये के मुद्रा ऋण स्वीकृत किए गए। इसी तरह प्रगति बढ़ाने के लिए निरंतर प्रयास जारी रखें।

मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना में लक्ष्य के मुताबिक प्रगति बढ़ायें। योजना में 5 लाख हितग्राहियों को लाभ पहुँचाने का लक्ष्य है। इसके लिए बैंक गंभीरता से कार्य करें। निजी बैंक ठीक से क्रियान्वयन करें। अभी तक  लगभग 2 लाख 82 हजार प्रकरणों में ऋण स्वीकृति जारी की गई है।

हर माह होगी स्व-रोजगार योजनाओं की प्रगति की समीक्षा

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक माह स्व-रोजगार योजनाओं की प्रगति की समीक्षा करुंगा। सभी बैंकर्स गंभीरता से कार्य करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि निजी बैंकों का परफार्मेंस ठीक नहीं है। भारत सरकार की योजनाओं में लापरवाही न बरतें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here