इंदौर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत और भैयाजी जोशी सहित प्रमुख पदाधिकारियों ने देशभर के अलग-अलग राज्यों से आए प्रतिनिधियों से वन-टू-वन बात की। इस दौरान हर प्रांत के लिए अलग रणनीति तय गई और वर्षभर के आयोजनों पर मुहर भी लगी। दो दिन की बैठकों में जितने मुद्दे चर्चा में आए हैं, उन पर संघ का क्या रुख रहेगा, इसका निर्णय मंगलवार को होने वाली अंतिम दिन की बैठक में होगा।


बैठक में दूसरे दिन भाजपा की ओर से राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष शामिल हुए। यह बात सामने आई है कि संघ प्रमुख भागवत और जोशी ने कुछ विषयों पर संतोष से अलग से चर्चा की। इस दौरान राम मंदिर, सीएए (नागरिकता संशोधन कानून) और धारा 370 जैसे अहम मुद्दों पर सरकार के फैसलों की प्रशंसा की गई और कुछ सुझाव भी दिए गए। सूत्रों के मुताबिक, सीएए को लेकर संघ अब पूरी रणनीति और कार्ययोजना अपने हाथ में रखना चाहता है। वह इसे राष्ट्रवाद से जुड़ा मानकर देश के बड़े तबके को एकजुट करना चाहता है। यही वजह है कि भाजपा और केंद्र सरकार सीएए पर जागरूकता को लेकर जो काम कर रहे हैं, वह चलते रहेंगे, लेकिन संघ भी अपने स्तर पर स्वयंसेवकों के जरिए लोगों तक बात पहुंचाएगा। बैठक के आखिर दिन सालभर के कामों के साथ राजनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा संभव है।


दूसरे दिन लंबी चली बैठक, सारे पदाधिकारी हुए शामिल
सोमवार को संघ की बैठकों का दौर सुबह 10 बजे शुरू हुआ और देर शाम तक चलता रहा। इस दौरान अलग-अलग बैठकें हुईं। इनमें संघ प्रमुख भागवत और सरकार्यवाह जोशी के अलावा कृष्णन गोपालन, सुरेश सोनी, दत्तात्रय होसबोले सहित हर राज्य के क्षेत्रीय प्रचारक शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *