दिल्ली। यूक्रेन में फंसे छात्रों के स्वदेश वापसी को चलाये जा रहे आपरेशन गंगा के तहत भारत तेजी से अभियान में लगा हुआ है। भारत साकार ने अभियान में तेजी लेन के उद्देश्य से यूक्रेन के पडोसी देशों में ४ केंद्रीय मंत्रियों को अभियान की जिम्मेदाई दी। इस बीच, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि रोमानिया और मोल्दोवा से पिछले सात दिनों में 6,222 भारतीयों को निकाला गया है। छात्रों को बुखारेस्ट (सीमा से 500 किलोमीटर) के बजाय सुसेवा (सीमा से 50 किलोमीटर) में उड़ाने संचालित करने के लिए लाया लगा है। साथ ही उन्होंने कहा कि अगले दो दिनों में 1,000 से अधिक छात्रों को निकाला जाएगा।

सूमी में 700 और खार्किव में 300 छात्र हैं फंसे

बता दें कि भारत ने शुक्रवार को रूसी और यूक्रेनी सैनिकों द्वारा खार्किव और सूमी के संघर्ष क्षेत्रों से अपने नागरिकों को निकालने के लिए संघर्ष विराम की मांग की थी। कम से कम 1,000 भारतीय छात्र (सूमी में 700 और खार्किव में 300) अभी भी पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष क्षेत्रों में फंसे हुए हैं। सरकार ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें निकालने के लिए बसों की व्यवस्था करना अभी सबसे बड़ी चुनौती साबित हो रही है।

सूमी में 700 और खार्किव में 300 छात्र हैं फंसे

बता दें कि भारत ने शुक्रवार को रूसी और यूक्रेनी सैनिकों द्वारा खार्किव और सूमी के संघर्ष क्षेत्रों से अपने नागरिकों को निकालने के लिए संघर्ष विराम की मांग की थी। कम से कम 1,000 भारतीय छात्र (सूमी में 700 और खार्किव में 300) अभी भी पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष क्षेत्रों में फंसे हुए हैं। सरकार ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें निकालने के लिए बसों की व्यवस्था करना अभी सबसे बड़ी चुनौती साबित हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here