लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 11वें डिफेंस एक्सपो-2020 का आयोजन चल रहा है। शुक्रवार को यहां आयोजित बंधन समारोह में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह व उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में 71 कंपिनयों के साथ करार हुए। रूस व स्पेन के साथ मुंबई स्थित मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड का करार हुआ है। ये कंपनी पनडुब्बी का निर्माण करेगी। जिसमें रूस और स्पेन मदद करेगा। बाद में ये पनडुब्बियां नौसेना को दी जाएंगी। रक्षामंत्री ने 13 रक्षा उत्पादों को लांच किया है।   

ये बंधन विश्वास, जो समय बढ़ने के साथ और मजबूत होगा: राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- आज 71 एमओयू, आर्टलरी गंस, गन, टैंक, बुलेटप्रूफ जैकेट, लाइट वेट हेलीकॉप्टर जैसे 13 रक्षा उत्पादों की लांचिंग समेत 100 से अधिक बंधन किए गए हैं। मनुष्य की जिंदगी में बंधन का कितना महत्व होता है, यह सभी जानते हैं। जिन कंपिनयों के साथ बंधन हुआ है, हम आशा करते हैं कि, वे बंधन के विश्वास को टूटने नहीं देंगे और समय के साथ और परिपक्व होगा। अभी तक डिफेंस एक्सपो में 200 के अधिक बंधन हो चुके हैं। आज हुए एमओयू से एमएसएमई को भी बड़ी मदद मिलेगी। डीआरडीओ यूपीडा डिफेंस कॉरिडोर के लिए को सपोर्ट करेगा।

राजनाथ सिंह ने कहा- उड़ान योजना के तहत उत्तर प्रदेश के कई जिलों को जोड़ा जाएगा। प्राइवेट सेक्टर लगातार डिफेंस सेक्टर को मजबूत कर रहे हैं। प्रत्येक एमओयू इनोवेशन, टेक्नोलॉजी एक्सचेंज के लिए फायदेमंद होंगे। हमारी पॉलिसी ने रिजल्ट देना शुरू कर दिया है। भारत का डिफेंस एक्सपोर्ट 7 गुना बढ़ा है। 2024 तक इसको हम 5 बिलियन का टारगेट पूरा करेंगे। हर सहयोग के लिए हमारी मिनिस्ट्री काम करेगी। उत्तर प्रदेश अधोगिक दृष्टि से कुछ सालों में सिर्फ देश में ही नही विदेश में जाना जाएगा।
 

यूपी के साथ 23 करार, योगी बोले- 50 हजार करोड़ से निवेश से खुलेंगे रोजगार के द्वार
सीएम ने कहा- भारत को रक्षा उत्पादन के साथ ही शोध और उसके विकास के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में जो प्रयास शुरू हुआ है, वह आज नई ऊंचाइयों को प्राप्त कर रहा है। आज कई एमओयू हुए हैं। एमओयू को बंधन का नाम देकर भावनात्मक जुड़ाव दिया गया है। इसके लिए रक्षामंत्री व तीनों सेना के अध्यक्ष बधाई के पात्र हैं। फरवरी 2018 में पीएम ने लखनऊ में डिफेंस कॉरिडोर की घोषणा की थी। उसी दिन से रक्षामंत्रालय के साथ मिलकर इसे मूर्तरूप देने का प्रयास शुरू किया था। आज यूपी सरकार के साथ यूपीडा के माध्यम से आज यहां 23 एमओयू संपन्न हुए हैं। 50 हजार करोड़ के निवेश पर हस्ताक्षर हुए हैं। यह एक एमओयू नहीं, उससे आगे भी जाकर यूपी की संभावनाओं लेकर है। ढाई से तीन लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। 

सीएम ने कहा- यूपी में हमनें डिफेंस व एयरोस्पेस की पॉलिसी की तैयार की है। ढाई साल के दौरान ढाई लाख करोड़ से ज्यादा निवेश कराने में सफल हुई है। निवेश के लिए अनुकूल वातारण बनाने का प्रयास किया है। जिन उद्यमियों ने यूपी सरकार के साथ एमओयू किया है, उन्हें आश्वास्त करता हूं कि, भारत की रक्षा, अनुसंधान व विकास के काम को सुरक्षित बनाने के साथ ही हर संभव मदद दी जाएगी। अहम योगदान दिया जाएगा। डिफेंस कॉरिडोर के लिए झांसी, अलीगढ़ में लैंड बुक हो चुका है। जेवर में एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट, पूर्वांचल, बुंदेलखंड व गंगा एक्सप्रेस वे के जरिए इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाया जा रहा है। 

शारंग तोप को मिला क्लीयरेंस
मेक इन इंडिया अभियान के तहत बनी अंतरराष्ट्रीय स्तर की शारंग तोप सहित अत्याधुनिक हथियार सेना को सौंपी जाएगी। अंतरराष्ट्रीय मानकों के तहत इसे आयुध निर्माणी बोर्ड द्वारा बनाया गया है। जेवीपीसी अल्फा कार्बाइन, बेल्टफेड एलएमजी, अमोघ-3 वरुणास्त्र, नाविक रिसीवर, डोमिनेटर ड्रोन, फाइबर ऑप्टिक गैरो बेस्ड आइएनएस सिस्टम, स्कॉर्पियन क्लास की पी-75-आई पनडुब्बी समेत 13 उत्पादों को लांच किया गया। 
 

प्रधानमंत्री ने किया था डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन

बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन किया था। यहां वृंदावन योजना के सेक्टर 15 में 43 हजार वर्गमीटर में फैले मैदान में हथियारों की दृष्टि से एशिया का सबसे बड़ा बाजार सजाया गया है। इसकी थीम डिजिटल ट्रांसफार्मेशन ऑफ डिफेंस रखी गई है। शुक्रवार को यहां सात सेमिनार होंगे। जिसमें भारत की सामरिक शक्ति को बढ़ाने के साथ दुनिया के लिए रक्षा उत्पादों के निर्यातक बनने पर चर्चा की जाएगी। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ के सांसद भी हैं। वे डिफेंस एक्सपो के समापन समारोह तक यहां रहेंगे। शुक्रवार को गोमती रिवर फ्रंट पर भारतीय सेना के द्वारा विषम परिस्थितियों में देश के दुश्मनों से निपटने का लाइव प्रदर्शन भी किया जाएगा। 

डिफेंस एक्सपो में आज ये प्रमुख कार्यक्रम- 

  • 09 बजे से: बिजनेस विजिटर के लिए शो
  • 10 से 01:50 बजे तक- एमडीएल के द्वारा डिजिटल ट्रांसफार्मेशन इन डिजाइन एंड कंसट्रक्शन इन शिप बिल्डिंग विषय पर सेमिनार
  • 10:30 से 12:30 बजे तक- रक्षामंत्री राजनाथ सिंह व सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा रक्षा उत्पादों की लांचिंग। इसे बंधन समारोह नाम दिया गया है। 
  • 10:30 से 01:30 तक- वृंदावन के सेमिनार हॉल एक में भारत व कोरिया के बीच डिफेंस एक्पोर्टस पर सेमिनार। 
  • 11 से 01 बजे तक- गोमती रिवर फ्रंट पर लाइव डेमो। 
  • 11:30 से 03:50 बजे तक- वृंदावन स्थित कॉफ्रेंस हॉल में कंप्यूटर विजन और एयर इंडिया व डिफेंस एप्लीकेशंस पर सेमिनार। 
  • 02:15 से 05:30 बजे तक- गोमती रिवर फ्रंट पर लाइव डेमो। 
  • 02:30 से 05:30 बजे तक- वृंदावन में सेमिनार एक, दो व तीन में एचएएल, एफआईसीसीआई और डीजीक्यूए की ओर से सेमिनार। 
  • 03 से 04:30 बजे तक- वृंदावन में सेना का लाइव प्रदर्शन। 


50 हजार करोड़ रुपए के निवेश की खुली राह
5 से 9 फरवरी तक चलने वाले डिफेंस एक्सपो में 70 देशों की रक्षा उपकरण बनाने वालीं 172 और भारत की 857 कंपनियां अपने कौशल व सामरिक शक्ति का प्रदर्शन कर रही हैं। यहां वृंदावन में एशिया का सबसे बड़ा हथियारों का मेला लगाया गया है। एक्सपो में रक्षा उत्पादन क्षेत्र में कानपुर के एक उद्यमी को अमेरिकी कंपनी ने करार का वादा किया है। कानपुर की कंपनी एयरक्राफ्ट अरेस्टर बैरियर का निर्माण करती है। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से अलग-अलग कम्पनियों से 23 एमओयू पर हस्ताक्षर किए जाने की योजना पर काम शुरू हो गया है। इससे 50 हजार करोड़ रुपए के निवेश की राह खुलेगी। सरकार की योजना सफल हुई तो 3 लाख से अधिक नौकरियों के सृजित होंगी। 8-9 फरवरी को इसे आम जनता के लिए खोला जाएगा। आम लोगों को भारत की बढ़ती सैन्य ताकत देखने को मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *