चंडीगढ़. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में रोजगार सृजन के दावों को सबूतों समेत जारी कर अकालियों को करारा जवाब देते हुए कहा कि अब अकाली नेता राज्य के लोगों को झूठ बोलकर गुमराह करने के लिए माफी मांगें। सीएम कैप्टन ने शुक्रवार को कहा कि शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल और उनकी पार्टी के साथियों को कुछ भी पता नहीं है कि पंजाब में क्या हो रहा है।

अकाली नेता असली तथ्यों को जाने बगैर बेबुनियाद बयानबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वास्तव में 1 अप्रैल, 2017 से अब तक दिए गए रोजग़ार का डाटा 11 लाख से भी अधिक है जिसका उन्होंने दिल्ली में कांग्रेसी उम्मीदवार के चुनाव प्रचार के दौरान खुलासा किया था।

कैप्टन ने कहा कि सरकारी तौर पर उनके पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार 1 अप्रैल, 2017 से 31 दिसंबर, 2019 तक 57,905 सरकारी नौकरियां पैदा की गईं जबकि 3,96,775 की प्राइवेट के तौर पर प्लेसमेंट कराई गई। वहीं, 7,61,289 को स्व-रोजग़ार के तहत मदद मुहैया करवाई गई। कुल 12,15,969 युवाओं को रोजगार दिया गया है।

सिद्धू का पार्टी के प्रति गैरजिम्मेदार रवैया, हाईकमान एक्शन लें : रंधावा

पूर्व कैबिनेट मंत्री और कांग्रेस के स्टार प्रचारक नवजोत सिंह सिद्धू के दिल्ली विधानसभा चुनाव के प्रचार से दूरी बनाए रखने को लेकर पंजाब की लीडरशिप नाराज है। उनका कहना है कि ऐसे समय में सिद्धू को पार्टी के कामों की अनदेखी नहीं करनी चाहिए, जब पार्टी ने चुनाव के दौरान प्रमुख ड्यूटी लगाई है। उन्हें हर हाल में पूरा काम करना चाहिए।

मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि पार्टी हाईकमान जिन नेताओं की ड्यूटी लगाता है उन्हें वह जिम्मेदारी निभानी चाहिए। चुनाव के समय सबसे जरूरी पार्टी के लिए काम करना होता है, लेकिन सिद्धू अपनी जिम्मेदारियों से भाग रहे हैं, ऐसे में पार्टी को उनके विरुद्ध एक्शन लेकर जवाब तलब करना चाहिए।

गाैर हाे कि सिद्धू द्वारा कैबिनेट पद छोड़ने के बाद और पार्टी की विभिन्न गतिविधियों से किनारा करने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि पार्टी अब उन्हें डिप्टी सीएम या दोबारा कैबिनेट पद देने पर विचार कर रही है। लेकिन दिल्ली चुनाव के प्रति सिद्धू के रवैये ने अब इस पर सवालिया निशान लगा दिया है।

माना जा रहा है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता दिल्ली चुनाव के बाद सिद्धू के बारे में सीएम से मिलकर कार्रवाई की मांग करें। वहीं, गलियारों में चर्चा थी कि सिद्धू दिल्ली विस चुनाव में प्रचार के लिए पार्टी की वरिष्ठ नेता प्रियंका के निमंत्रण का इंतजार कर रहे थे। 
 

सिद्धू काे जिम्मेदारी निभानी चाहिए थी

मंत्री तृप्त रजिंदर सिंह बाजवा ने कहा कि पार्टी हाईकमान जिन नेताओं की ड्यूटी लगाता है उन्हें वह जिम्मेदारी निभानी चाहिए। बात अगर स्टार प्रचारक की हो तो जिम्मेदारी और बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि सिद्दू हो या फिर कोई और नेता इस तरह का गैरजिम्मेदारी वाला रवैया ठीक नहीं है। अगर उन्हें पार्टी ने जिम्मेदारी सौंपी थी तो उन्हें हर हाल में पूरी करनी चाहिए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *