पानीपत/अम्बाला। प्रदेश में सीआईडी विभाग को लेकर खड़ी हुई कंट्रोवर्सी के बीच शनिवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने अपने आवास पर मेयरों व आयुक्तों की बैठक ली। इस बैठक में नगर निकाय मंत्री अनिल विज मौजूद नहीं थे। विज अम्बाला स्थित अपने आवास पर लोगों की जन समस्याएं सुन रहे थे। हालांकि विज ने इस बारे में कोई बयान नहीं दिया। चर्चा है कि सीएम ने ही यह बैठक बुलाई थी। 
विज के घर के बाहर आम जनता की लंबी कतार

वहीं अनिल विज के घर के बाहर शनिवार को शिकायत लेकर पहुंचने वालों की लंबी कतार लगी रही। विज खुद अपनी कुर्सी से उठकर लोगों के बीच पहुंचे। उन्होंने कहा कि मुझे चंडीगढ़ जाना होता है लेकिन फिर भी मेरी कोशिश रहती है कि सभी की शिकायत सुन पाऊं। क्योंकि जो लोग यहां पहुंचे हैं वे सर्दी में यहां तक आए हैं, ऐसे में मैं किसी की फरियाद न सुनूं ऐसा हो नहीं सकता। विज ने कहा कि अब उन्होंने आदेश दिया है कि उनके द्वारा भेजी गई शिकायत को डीएसपी लेवल से कम का अधिकारी जांच नहीं करेगा। विज बोले कि मैं लोगों के लिए आखिरी सांस तक लडूंगा। 

डॉक्टरों की भर्ती को सीएमओ ने रोका
अब डॉक्टरों की भर्ती को लेकर भी विवाद खड़ा हो गया है। स्वास्थ्य विभाग में शुरू हुई 447 डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया पर सीएमओ ने रोक लगा दी है, जबकि भर्ती को सीएम की मंजूरी के बाद वित्त विभाग ने भी हरी झंडी दे दी थी। 1 जनवरी को विज्ञापन जारी कर आवेदन भी मांग लिए थे। आवेदन के लिए आखिरी तारीख 22 जनवरी थी। अब तक करीब 500 आवेदन विभाग के डीजी के पास जमा हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग अनिल विज के पास है। इसलिए भर्ती पर सीएमओ की तरफ से अचानक रोक लगाए जाने से विवाद बढ़ सकता है। 

सीएम व विज के बीच 20 दिन में तीसरा विवाद

  • 28 दिसंबर को सीएम के आदेश पर 9 आईपीएस के ट्रांसफर गृहमंत्री अनिल विज की असहमति के बावजूद कर दिए गए।  
  • सीआईडी पर अधिकार को लेकर विवाद चल रहा है। इसे गृह विभाग से अलग करने की अंदरखाने तैयारी चल रही है।
  • अब विज के स्वास्थ्य विभाग में डॉक्टरों की भर्ती सीएमओ ने रोक दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *